अगर दांत फटने पर बच्चा रोता है, तो यह घरेलू उपाय करें, यह तुरंत शांत हो जाएगा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Sunday, October 3, 2021

अगर दांत फटने पर बच्चा रोता है, तो यह घरेलू उपाय करें, यह तुरंत शांत हो जाएगा

 daant%2Bfatnaदांतों के फटने या दांतों के बढ़ने पर शिशु को दर्द होता है। जिसके कारण वह कुछ भी नहीं खाते हैं और चिड़चिड़े हो जाते हैं। इसके अलावा, वह अक्सर इस समस्या के कारण रोता है। बच्चे को रोते हुए देखना मां के लिए सबसे ज्यादा दुखदायी होता है और जब बच्चा ज्यादा संकट में होता है तो मां ज्यादा परेशान हो जाती है। डॉक्टर बच्चे को आराम करने में मदद करने के लिए विटामिन और कैल्शियम की खुराक निर्धारित करता है। इसके अलावा आप कुछ घरेलू उपायों से भी बच्चे को शांत कर सकते हैं।


खूब पानी पिएं:
दांत निकलते समय बच्चे को ज्यादा से ज्यादा तरल दें। आप बच्चे को स्तन के दूध के अलावा अन्य तरल पदार्थ भी दे सकती हैं। जब दांत आ जाएं तो स्तन का दूध पंप करके थोड़ी देर फ्रिज में रखें और फिर इसे बच्चे को पीने के लिए दें।

-अगर बच्चा थोड़ा ठंडा दूध भी पीता है, तो भी उसे आराम मिलेगा। ठंडा दूध उसी तरह पीना जिस तरह से डेंटिस्ट आइसक्रीम खाने की सलाह देते हैं, उससे दांतों में लगे बच्चे को आराम मिलता है।

मालिश: यदि
बच्चा दांत दर्द के कारण शिकायत कर रहा है, तो मालिश करने से उसे राहत मिल सकती है। धीरे से अपने हाथों से बच्चे के सिर और पैरों की मालिश करें। मालिश से बच्चे का दर्द कम नहीं होगा बल्कि उसे बेहतर नींद और आराम करने में मदद मिलेगी।

कैमोमाइल चाय:
कुछ लोगों को दांत दर्द को कम करने के लिए कैमोमाइल चाय लेने की सलाह दी जाती है। कैमोमाइल का उपयोग कुछ प्राकृतिक शुरुआती उत्पादों में किया जाता है। बच्चे को हमेशा कैफीन मुक्त चाय दी जानी चाहिए। अगर आप अपनी उंगली से बच्चे को चाटते हैं तो भी यह चाय अच्छी लगेगी।

हनी क्रश:
शहद में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-सेप्टिक गुण होते हैं। यदि कोई चोट है जिसके कारण तत्काल राहत मिलती है। अगर बच्चे को दांत में दर्द है, तो उसे शहद दें। इससे उन्हें काफी राहत मिलेगी।

डॉक्टर से बात करें:
कई बच्चों को घरेलू उपचार से बहुत राहत नहीं मिलती है। फिर ऐसे समय में आप डॉक्टर से बात करें और पूछें कि बच्चे को राहत कैसे मिलेगी। डॉक्टर से पूछे बिना बच्चे को कुछ भी न दें।

No comments:

Post a Comment