कुवैत का एक ऐसा डॉक्टर, जिसे दुनिया डॉक्टर भैया कहती है


आप सभी जानते है की धरती पर भगवान के बाद किसी को ईश्वर कहा जाता है तो तो वो डॉक्टर होते हैं.साल 2020 के कोरोना काल में हमने महसूस भी किए. अपनी जान की परवाह किए बगैर देश के हर डॉक्टर्स ने मानव सेवा में अपनी जान लगा दी. आज उनकी बदौलत इस धरती पर मानवता ज़िंदा है डॉक्टर्स भगवान का दूसरा रूप कहा जाता है. जब हम बीमार होते है तो ये हमारी ज़िंदगी को बचाते हैं.

आज हम आपको एक ऐसे डॉक्टर से मिलवाने जा रहे हैं, जो मानवता के नाम पर एक आदर्श हैं. ये कुवैत सरकार के स्वास्थ्य विभाग में दंत चिकित्सक हैं. पूरी दुनिया को अपना परिवार मानते हैं, हिन्दुस्तान को अपनी शान समझते हैं और बिहार को अपना दिल.

डॉक्टर भैया’ का असली नाम डॉ. सुमंत मिश्रा है. ये प्रवासी बिहारी हैं, बिहार के छपरा में इनका पुश्तैनी मकान है. यूपी के नोएडा में अपनी परिवार के साथ रहते हैं. वर्तमान में ये कुवैत सरकार के स्वास्थ्य विभाग में जुड़कर काम करते हैं.  ‘डॉक्टर भैया’ अपने काम को ये सेवा भाव के साथ करते हैं. अपनी काम को मानवता के लिए समर्पित कर दिया है. भारत के अलावा नेपाल, भूटान, बांग्लादेश, पाकिस्तान जैसे देशों के लोगों को भी स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देते हैं. 

डॉक्टर भैया’ देश में हेल्थ एजुकेशन को बढ़ावा देना चाहते हैं. ऐसे में उन्होंने बिहार के गया जिले के लोहानीपुर गांव को गोद लिया है. यहां गांव के लोगो को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक कर रहे हैं. इसके अलावा टेलीमेडिसीन की व्यवस्था भी कर रहे हैं, ताकि देश-विदेश के डॉक्टर गांव के लोगो का आसानी इलाज़ कर सकें. बच्चों के लिए डिजिटल एजुकेशन की व्यवस्था कर रहे हैं ताकि बच्चे डिजिटल शिक्षा को आसानी से समझ सके.

अभी डॉक्टर भैया’ यानि सुमंत मिश्रा ने हानीपुर के गांव से शुरुआत कर रहे है यहां करीब 12 गांव के लोग इस सेवा का लाभ उठा सकेंगे. अपने विशेष कैंपेन की मदद से डॉक्टर सुमंत मिश्रा देश को बेहतरीन बनाना चाहते हैं.

0/Post a Comment/Comments