ये है देश का सबसे खतरनाक किला जहां सूर्यास्त के बाद कोई नहीं रहना चाहता, ये है इसके पीछे की बड़ी वजह - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Friday, July 9, 2021

ये है देश का सबसे खतरनाक किला जहां सूर्यास्त के बाद कोई नहीं रहना चाहता, ये है इसके पीछे की बड़ी वजह

  कलावंडी-दुर्ग

दुनिया में कई ऐसी जगहें हैं जो किसी अजूबे से कम नहीं हैं। कुछ जगहें ऐसी भी हैं जहां रहस्य आज भी जस का तस है। कुछ जगहों पर लोग डर के मारे नहीं जाते। भारत में ऐसा ही एक स्थान है प्रबलगढ़ का किला, जो महाराष्ट्र में माथेरान और पनवेल के बीच स्थित है।

बिल्कुल ख़ूबसूरत होने के साथ ख़तरनाक

भारत में राजाओं के कई ऐसे किले हैं, जो काफी खूबसूरत होने के साथ-साथ खतरनाक भी हैं। महाराष्ट्र में माथेरान और पनवेल के बीच एक ऐसा किला है, जो भारत के सबसे खतरनाक किलों में गिना जाता है। इस किले को प्रबलगढ़ किले के नाम से जाना जाता है। यह किला कलावंती किले के नाम से भी प्रसिद्ध है।

प्रबलगढ़ का किला २,३०० फीट की ऊंचाई पर एक खड़ी पहाड़ी पर बनाया गया था

प्रबलगढ़ के किले को कलावंती का किला भी कहा जाता है। इस किले को भारत के सबसे खतरनाक किलों में से एक माना जाता है। प्रबलगढ़ का किला 2,300 फीट की ऊंचाई पर एक खड़ी पहाड़ी पर बना है। इस कारण इस किले में बहुत कम लोग आते हैं और जो लोग इस किले में जाते हैं वे सूर्यास्त से पहले वापस आ जाते हैं।

शाम ढलने के बाद मीलों तक यहां सब कुछ शांत है

किले की ऊंचाई अधिक होने के कारण लोग यहां अधिक समय तक नहीं रह सकते हैं और यह भी कहते हैं कि यहां बिजली या पानी की आपूर्ति नहीं है, इसलिए लोगों का यहां रहना बहुत मुश्किल है। शाम से लेकर मीलों तक यहां सब कुछ शांत है।

पहाड़ी की चट्टानों को काटकर सीढि़यां बनाई गईं

किले पर चढ़ने के लिए सीढ़ियां पहाड़ी की चट्टानों को काटकर बनाई गई हैं, हालांकि इन सीढ़ियों पर कोई रस्सियां ​​या रेलिंग नहीं हैं। यहां जरा भी चूके तो सीधे 2300 फीट नीचे गड्ढे में गिर जाएंगे। इससे लोग अंधेरे में यहां आने से भी डरते हैं।

इस किले से गिरने से कई लोगों की मौत हो गई

कहा जाता है कि इस किले से गिरने से कई लोगों की मौत हो गई थी। किले को पहले मुरंजन किले के नाम से जाना जाता था, लेकिन इसका नाम छत्रपति शिवाजी महाराज के शासनकाल के दौरान बदल दिया गया था। ऐसा कहा जाता है कि शिवाजी महाराज ने रानी कलावती के नाम पर किले का नाम रानी कलावंती रखा था।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment