आईसीसी टूर्नामेंट में ‘मैन ऑफ द टूर्नामेंट’ का किताब जीतने वाले 4 भारतीय क्रिकेटर - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, July 3, 2021

आईसीसी टूर्नामेंट में ‘मैन ऑफ द टूर्नामेंट’ का किताब जीतने वाले 4 भारतीय क्रिकेटर

  


भारत ने विश्व क्रिकेट को कई नायाब क्रिकेटर दिए हैं, जिसमें सबसे बड़ा नाम सचिन तेंदुलकर और मौजूदा समय के सुपर स्टार बल्लेबाज विराट कोहली का नाम सबसे ऊपर है। जिन्हें कई बार विश्व स्तर के टूर्नामेंट में सम्मान भी मिल चुका है। क्रिकेट को चलाने वाली संस्था आईसीसी जो टूर्नामेंट आयोजित करती है, उसमें विश्वकप (एकदिवसीय व टी-20) और चैंपियंस ट्रॉफी दो सबसे बड़े इवेंट हैं। ऐसा कहा जाता है, इन टूर्नामेंट्स में जो खिलाड़ी बेहतरीन खेल दिखाते हैं, उन्हें दुनिया का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी भी माना जाता है। आपको बता दें कि भारतीय टीम आईसीसी के सभी टूर्नामेंट में खिताबी जीत दर्ज कर चुकी है। लेकिन क्या आपको पता है कि इन टूर्नामेंट में भारतीय टीम की जीत का असली नायक यानि मैन ऑफ द टूर्नामेंट कौन रहाः

शिखर धवन

इंग्लैंड में हुई चैंपियंस ट्रॉफी 2013 में भारतीय टीम के खिताबी जीत में शिखर धवन की अहम भूमिका थी। उन्होंने 5 मैचों में 90.75 के औसत से 363 रन बनाए थे, जिसमें दो शतक भी शामिल था। उनके इस शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था।

विराट कोहली

भारत के मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने टी-20 विश्वकप 2014 में 6 पारियों में 106 के औसत से 319 रन बनाए थे, जिसमें 4 अर्धशतक शतक शामिल थे। जबकि साल 2016 में विराट कोहली ने 5 मैचों में 126 के औसत से 273 रन बनाए थे, जिसमें तीन अर्धशतक शामिल थे। उनके इस बेजोड़ प्रदर्शन के लिए उन्हें दोनों टूर्नामेंट में मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था। हालांकि दोनों बार भारतीय टीम खिताब पर कब्जा जमाने असफल रही थी।

युवराज सिंह

भारत के सबसे बड़े मैच विजेता खिलाड़ी की जब भी बात होगी, तो उसमें युवराज सिंह का नाम सबसे ऊपर होगा। 28 वर्ष बाद जब साल 2011 में भारतीय टीम विश्व विजेता बनी थी, तो युवराज सिंह की भूमिका सबसे अहम थी। उन्होंने नौ मैचों में 362 रन और 15 विकेट झटके थे, जिसमें एक शतक और 4 अर्धशतक शामिल थे। युवराज को इस शानदार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था।

सचिन तेंदुलकर

साल 2003 का विश्वकप भले ही भारत न जीत पाया हो, लेकिन क्रिकेट के इतिहास में इस आयोजन को हमेशा खास जगह मिलेगी। जिसकी सबसे बड़ी वजह भारत के सबसे बड़े बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर होंगे। मास्टर-ब्लास्टर ने इस टूर्नामेंट के 11 मैचों में 61 की औसत से कुल 673 रन रन बनाए थे। जिसमें 1 शतक और 6 अर्धशतक शामिल थे, सचिन को इस यादगार प्रदर्शन के लिए मैन ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था।

आपको क्या लगता है वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में कौन बनेगा मैन ऑफ द टूर्नामेंट? अपना जवाब कमेंट करके जरुर बताएं

No comments:

Post a Comment