IPL के 5 मैच विनर जिन्हें कभी नहीं मिला भारत के लिए डेब्यू का मौका - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Wednesday, May 19, 2021

IPL के 5 मैच विनर जिन्हें कभी नहीं मिला भारत के लिए डेब्यू का मौका

  


इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर के महत्वाकांक्षी युवा क्रिकेटरों के लिए एक बड़ा पलटफॉर्म हैं. किसी एक मैच में एक अनकैप्ड या कम प्रसिद्ध खिलाड़ी का मैच जीतने वाला प्रदर्शन दर्शकों और राष्ट्रीय चयनकर्ताओं दोनों का समान रूप से ध्यान आकर्षित करता हैं. शानदार प्रदर्शन के बाद खिलाड़ी सीनियर टीम में अपना पहला कॉल-अप अर्जित कर सकता है. आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन के बाद ख़ाई९ खिलाड़ियों को टीम इंडिया के लिए खेलना का मौका मिला हैं, लेकिन आज इस लेख में हम आईपीएल के उन 5 मैच विनर खिलाड़ियों के बारे में जानेगे, जिन्हें भारत के लिए डेब्यू का मौका नहीं मिला हैं.

1) रजत भाटिया

रजत भाटिया एक मध्यगति के गेंदबाजी ऑलराउंडर रहे हैं, जिन्होंने आईपीएल सहित घरेलू क्रिकेट पर कंसिस्टेंट प्रदर्शन किया हैं. इस खिलाड़ी ने आईपीएल में 4 फ्रैंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स, राजस्थान रॉयल्स, कोलकाता नाईट राइडर्स और राइजिंग पुणे सुपरजाइंट के लिए 95 मैच खेले हैं, जिस दौरान इस खिलाड़ी ने 71 खिलाड़ियों को पवेलियन की राह दिखाई हैं.

गेंदबाजी में अच्छा प्रदर्शन करने के आलावा इस खिलाड़ी कई अहम मौकों पर रन भी बनाये हैं ये खिलाड़ी कभी भी चयनकर्ताओं की रिडार में नहीं आया हैं.

2) सिद्धार्थ त्रिवेदी

दाए हाथ के तेज गेंदबाज सिद्धार्थ त्रिवेदी आईपीएल में सिर्फ राजस्थान रॉयल्स फ्रैंचाइजी के लिए खेले है. ये गेंदबाज वर्षों तक राजस्थान रॉयल्स का स्ट्राइक गेंदबाज रहा हैं. लंबे कद के इस गेंदबाज 76 आईपीएल मैचों में 7.59 रन प्रति ओवर की रनगति से 65 विकेट झटके. लेकिन उसे कभी भी भारतीय टीम के लिए नहीं चुना गया.

3) मनविंदर बिसला

विकेटकीपर बल्लेबाज मनविंदर बिसला को शायद ही कोई फैन्स भूल पाया होगा. बिसला ने आईपीएल 2012 के फाइनल में कोलकाता नाईट राइडर्स की ओर खेलते हुए चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ सिर्फ 48 गेंदों पर 89 रनों की तूफानी पारी खेलकर अपनी टीम को चैंपियन बनाया था.

36 वर्षीय खिलाड़ी आईपीएल करियर में कोलकाता नाईट राइडर्स, पंजाब किंग्स और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खेले, जहाँ उन्होंने 39 मैचों में 21 की औसत और 113.68 की स्ट्राइक रेट से 798 रन बनाये, जिसमे 4 अर्द्धशतक भी शामिल रहे.

4) इकबाल अब्दुल्ला

आईपीएल 2012 में कोलकाता नाईट राइडर्स को चैंपियन बनने में इस फिरकी गेंदबाज ने अहम भूमिका अदा की हैं. इससे पहले 2011 सीजन में भी वह टीम के सबसे सफल गेंदबाज रहे थे और सिर्फ 15 मैचों में 19.06 की औसत और 6.10 की इकॉनोमी दर से 16 खिलाड़ियों को पवेलियन की राह दिखाई थी.

आईपीएल के इस मैच विनर खिलाड़ी ने 49 मैचों में 27.72 की औसत और 7.23 की किफायती इकॉनोमी दर से 40 खिलाड़ियों को आउट किया, लेकिन रविचंद्रन अश्विन और जड़ेजा के कंसिस्टेंट प्रदर्शन के कारण उन्हें कभी भी टीम इंडिया के लिए खेलने का मौका नहीं मिला.

5) स्वप्निल असनोदकर

राजस्थान के गुमनाम क्रिकेटर स्वप्निल असनोदकर ने आईपीएल के पहले सीजन में राजस्थान रॉयल्स के लिए यादगार प्रदर्शन करके खूब नाम कमाया था. सीजन के दौरान उन्होंने साउथ अफ्रीका के दिग्गज ग्रीम स्मिथ के साथ ओपनिंग करते हुए टीम की खिताबी जीत में अहम भूमिका निभाई थी.

दाए हाथ के बल्लेबाज ने आईपीएल के 4 सीजन खेले और 20 मैचों में 21.15 की औसत और 124.78 की स्ट्राइक रेट से 423 रन बनाए, जिसमे 2 अर्द्धशतक भी जड़े थे.

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment