1 मई जब पूरी दुनिया ने माना मजदूरों का लोहा, कांप उठा था शक्तिशाली देश - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, May 1, 2021

1 मई जब पूरी दुनिया ने माना मजदूरों का लोहा, कांप उठा था शक्तिशाली देश

 

Labour Day 2020, May Day, Majdoor Divas, May divas

Labour Day 2020: एक तरफ जहां लॉकडाउन में मजदूरों का पलायन सुर्खियों के बाजार में छाया रहा। इसे लेकर कई लोग राजनीति करने से भी बाज नहीं आए। स्थिति ऐसी बन गई कि मजदूर दयनीय जीवन जीने पर बाध्य हो गए। कई मजदूरों ने तो पैदले ही अपने-अपने गांव जाने का फैसला किया है और वे इसमें काफी हद तक सफल भी हुए, मगर इस राह में उन्हें काफी समस्याओं का सामना भी करना पड़ा। इसी संवेदशील दौर के बीच हम 1 मई को मजदूर दिवस बनाने जा रहे हैं। इस दिन को दुनियाभर के सभी मजदूर ‘मजदूर दिवस’ के रूप में मनाते हैं। इस दिन मजदूर के हक की बातें की जाती है। उनके अधिकार की बातें की जाती है। उनके आत्मसम्मान की बातें की जाती है… तो इसी मौके पर हम आपको बताने जा रहे हैं कि आखिर इस दिवस के मनाने की पीछे की असल कहानी क्या है.. जानने के लिए पढ़िए हमारी ये खास रिपोर्ट।

मजदूर दिवस के इतिहास को जानने के लिए आपको 132 साल पुराने अतीत में जाना होगा, जब पूरी दुनिया की स्थिति आज से न जाने कितनी ही जुदा थी। दरअसल 1877 में मजदूरों ने काम के लिए घंटे तय करने की मांग को लेकर आंदोलन करना शुरू कर दिया था। आहिस्ता-आहिस्ता इस आंदोलन का रूख पूरे विश्व में फैल गया। अपनी इस मांग को लेकर पूरे विश्व के मजदूर एकजुट हो गए। एक मई 1886 को पूरे अमेरिका के लाखों मज़दूरों ने एक साथ हड़ताल शुरू की। इसमें 11,000 फ़ैक्टरियों के कम से कम तीन लाख अस्सी हज़ार मज़दूर शामिल हुए और वहीं से एक मई को मजदूर दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत हुई… तो चलिए हम आपको 1 मई यानी की मजदूर दिवस से जु़ड़ी कुछ एतिहासिक तारीखों से आपको रूबरू कराते हैं। (Labour Day 2020)

और पढ़े: कोरोना के बाद ब्रिटेन में फैला एक और खतरनाक वायरस, ये है लक्षण जानें और हो जाएं सतर्क

1886: अमेरिका के शिकागो में कामगारों के लिए काम के घंटे तय करने को लेकर हड़ताल, मजदूर दिवस मनाने की शुरुआत।

1897: स्वामी विवेकानंद ने रामकृष्ण मिशन की स्थापना की।

1908: प्रफुल्ल चाकी ने मुजफ्फरपुर बम कांड को अंजाम देने के बाद खुद को गोली मारी।

1914: कार निर्माता फोर्ड वह पहली कंपनी बनी जिसने अपने कर्मचारियों के लिए आठ घंटे काम करने का नियम लागू किया।

1923: भारत में मई दिवस मनाने की शुरुआत।

1956: जोनसा साल्क द्वारा विकसित पोलियो वैक्सीन जनता के लिए उपलब्ध कराई गई। ॉ

1960: महाराष्ट्र और गुजरात अलग अलग राज्य बने।

1972: देश की कोयला खदानों का राष्ट्रीयकरण।

2009: स्वीडन ने समलैंगिक विवाह को मंजूरी दी।

2011: अमेरिका पर 2001 के हमले के मास्टरमाइंड ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान के ऐबटाबाद में मारे जाने की पुष्टि।

Labour Day 2020: मजदूर दिवस पर अपना कोई अनुभव हमसे शेयर करना चाहते है तो हमें कमेंट करके जरुर बताएं हम आपसे जरुर संपर्क करेंगे

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment