IPL 2021- कभी मजदूरी करके बनाई थी पिच, प्रेरणादायक है रवि बिश्नोई के संघर्ष की कहानी!

 

IPL 2021- कभी मजदूरी करके बनाई थी पिच, प्रेरणादायक है रवि बिश्नोई के संघर्ष की कहानी!

आईपीएल ऐसा प्लेटफॉर्म है, जहां युवा खिलाड़ियों को मौका मिलता है, राजस्थान के 20 वर्षीय लेग स्पिनर रवि बिश्नोई भी इन युवा खिलाड़ियों में से एक हैं, रवि का जोधपुर में ट्रेनिंग के लिये मजदूरी करने से आईपीएल का कांट्रेक्ट हासिल करने तक का सफर हर उभरते खिलाड़ी के लिये प्रेरणादायक है, वो पिछले साल अंडर-19 विश्वकप में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे, इसी प्रदर्शन के बाद उन्हें पंजाब किंग्स ने ऑक्शन में 2 करोड़ की मोटी रकम देकर टीम के साथ जोड़ा था।

संघर्ष से भरा रास्ता
इस लेग स्पिनर ने एक यू-ट्यूब चैनल को दिये इंटरव्यू में पंजाब किंग्स की ओर से खेलने का मौका मिलने को लेकर यहां तक पहुंचने के सफर में आई तकलीफों पर खुलकर बात की, रवि बिश्नोई ने खुलासा किया, कि उनके परिवार में कोई भी इस खेल से जुड़ा नहीं था, आर्थिक हालात भी ऐसे नहीं थे, कि किसी क्लब से ट्रेनिंग ले पाएं, लेकिन खेल के लिये इतना जूनून था कि उसकी बदौलत ही वो यहां तक पहुंचे।

पिच बनाने के लिये मजदूरी
अपने संघर्ष के दिनों को याद करते हुए रवि बिश्नोई ने कहा कि नाकामी आपकी तरक्की की राह का अहम हिस्सा है, लेकिन जब आपको मौका मिल जाए, तो फिर उसे बर्बाद ना होने दें, और अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें, उन्होने बताया कि अपने सपने को सच करने के लिये मैंने जोधपुर में अपने कोच प्रद्योत सिंह राठौर और शाहरुख पठान के साथ मिलकर स्पार्टन नाम से एक क्रिकेट एकेडमी शुरु की थी, पैसे नहीं होने की वजह से एकेडमी की पिच और बाकी सुविधाएं जुटाने के लिये मैं और मेरे कई साथी सीमेंट की बोरी से लेकर ईंट तक उठाते थे, मुझे आज भी याद है कि मैंने बारहवीं बोर्ड परीक्षा पर राजस्थान रॉयल्स के ट्रायल्स को तरजीह दी, मैं रिजेक्ट हो गया, लेकिन कोशिश नहीं छोड़ी।

कप्तान और कोच ने आत्मविश्वास बढाया
पिछले आईपीएल में पहली बार पंजाब की ओर से खेलने वाले बिश्नोई ने अपने कप्तान केएल राहुल की भी तारीफ की, उन्होने कहा, कि जब सनराइजर्स हैराबाद के खिलाफ डेब्यू मुकाबले में मैंने पार्टनरशिप तोड़ी और एक ही ओवर में 2 विकेट लिये, तो पूरी टीम ने मेरी तारीफ की, खासतौर पर कप्तान राहुल हमेशा सपोर्ट करते हैं, इतना ही नहीं इस लेग स्पिनर ने पंजाब के कोच अनिल कुंबले और अंडर-19 टीम के कोच राहुल द्रविड़ से मिली टिप्स को भी अहम बताया, उन्होने कहा कि इन दोनों की वजह से मेरी आत्मविश्वास बढा और मैं नेट्स पर गेल, निकोलस पूरन और केएल राहुल जैसे बल्लेबाजों के खिलाफ गेंदबाजी कर पाया, मुझे लगा कि जब मैं नेट्स पर इन दिग्गजों को रोक सकता हूं, तो फिर मैदान पर भी किसी भी बल्लेबाज को दबाव में ला सकता हूं।

पिछले आईपीएल में 12 विकेट
इस साल के आईपीएल को लेकर रवि बिश्नोई ने कहा, डेविड मलान, झाय रिचर्डसन और शाहरुख खान जैसे खिलाड़ियों के जुड़ने से टीम की ताकत बढ गई है, और संतुलंन अच्छा हो गया है, पिछले सीजन के 14 मैच में 12 विकेट लेने वाले गेंदबाज ने कहा कि मैं इस बार भी खुद को साबित करना चाहूंगा और टीम की जीत में अपना योगदान दूंगा, मुझे विश्वास है कि इस बार भाग्य हमारे साथ होगा, पंजाब आईपीएल का खिताब जीतने में सफल रहेगी।

0/Post a Comment/Comments