वेटर बन जुटाते थे पैसे, पिता रोकना चाहते थे पढाई, प्रेरणादायक है इस युवा IAS के संघर्ष की कहानी! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Tuesday, April 6, 2021

वेटर बन जुटाते थे पैसे, पिता रोकना चाहते थे पढाई, प्रेरणादायक है इस युवा IAS के संघर्ष की कहानी!

 

वेटर बन जुटाते थे पैसे, पिता रोकना चाहते थे पढाई, प्रेरणादायक है इस युवा IAS के संघर्ष की कहानी!

मुफलिसी को मात देकर जिंदगी में सफलता हासिल करने वालों की यूं तो कोई कमी नहीं है, आज हम जिस शख्सियत की बात कर रहे हैं, उसने गरीबी से लड़ते हुए आईएएस अधिकारी जैसा ऊंचा मुकाम हासिल किया, महाराष्ट्र के जालना के एक छोटे से गांव में जन्म लेने वाले अंसार अहमद शेख ने 21 साल की उम्र में यूपीएससी परीक्षा में 371वां रैंक हासिल की थी, लेकिन इस सफलता के पीछे उनके संघर्ष की कहानी आपको हैरान कर देगी।

पिता चलाते थे रिक्शा
बताया जाता है कि अंसार अहमद शेख के पिता साइकिल रिक्शा चलाते थे, उनके घर की आर्थिक हालत बेहद खराब थी, घर में माता-पिता के अलावा अंसार की दो बहनें और एक भाई है, पिता की मेहनत से घर में प्रतिदिन 100-150 रुपये बमुश्किल जुट पाते थे, अंसार के बड़े भाई कम उम्र में ही गैराज में काम करने के लिये मजबूर हो गये, ताकि किसी तरह घर खर्च उठाया जा सके, अंसार ने एक बार इंटरव्यू में बताया था कि जब वो चौथी क्लास में थे, तो उनके पिता ने उनकी पढाई रोकने का मन बना लिया था, लेकिन बाद में टीचर के कहने पर पढाई जारी रखी।


बचपन से पढाई में होशियार
अंसार बचपन से ही पढाई-लिखाई में होशियार थे, 10वीं में अच्छे अंक हासिल करने के बाद उन्होने 12वीं में 91 फीसदी नंबर लाकर सबको चौंका दिया था, 2education examअंसार अहमद शेख ने उच्च शिक्षा के लिये पुणे के एक बड़े कॉलेज में पॉलिटिकल साइंस में बीए में दाखिल लिया, पढाई-लिखाई के दिनों में किसी शख्स ने अंसार को यूपीएससी के बारे में बताया था, और उन्होने उसी वक्त ये फैसला कर लिया था कि वो इस परीक्षा को क्रैक जरुर करेंगे।


वेटर का काम
लेकिन इस परीक्षा में पास करने से पहले अंसार अहमद शेख को अभी जिंदगी की अग्नि परीक्षा में पास होना बाकी था, मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपीएससी की परीक्षा की तैयारी के पैसे जुटाने के लिये अंसार अहमद शेख ने होटल में वेटर की नौकरी भी की, वो होटल में सुबह 8 बजे से काम में जुट जाते थे, और देर रात तक काम करते थे, लेकिन इस बीच समय निकाल कर वो अपनी पढाई करना कभी नहीं भूले। 2015 में वो वक्त भी आया, जब अंसार अहमद शेख को अपनी जीतोड़ मेहनत का बेमिसाल ईनाम मिला, अंसार ने यूपीएससी की परीक्षा पास कर ली।

No comments:

Post a Comment