करोड़ों में एक इस बेटी ने रच दिया इतिहास, खुद मंत्री बधाई देने पहुंचे घर


करोड़ों में एक इस बेटी ने रच दिया इतिहास, खुद मंत्री बधाई देने पहुंचे घर

 बच्‍चों को सफल्‍ता हासिल हो, कोई बड़ उपलब्धि हो तो सबसे ज्‍यादा खुशी उसके मां-बाप और परिवार को हाती है । लेकिन छत्‍तीसगढ़ के दुर्ग की इस बेटी ने ऐसा कमाल कर दिया है कि खुद राज्‍य के मुख्‍यमात्री उस पर गर्व महसूस कर रहे हैं । इतना ही नहीं आम आदमी से लेकर मंत्री-सांसद तक उसे बधाई देने के लिए घर पहुंच रहे हैं। जानें इस बेटी की उपलब्धि के बारे में, जिसके कारण सब इसकी तारीफ कर रहे हैं ।

इसरो में हुआ चयन
सृष्टि बाफना नाम की इस बेटी ने इंडियन स्पेस रिसर्च आर्गेनाईजेशन (ISRO) की राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित वैज्ञानिक (सिविल) चयन परीक्षा में पूरे देश में पहला स्थान हासिल किया है। सृष्टि के साथ इस परीक्षा में पूरे देश से करीब 1 लाख से 80 हजार प्रतिभागी इस परीक्षा में शामिल हुए थे । जिसमें लिखित परीक्षा के बाद महज 124 स्टूडेंट इंटरव्यू के लिए चयनित हुए। फिर अंतिम रूप 1 लोगों का चयन हुआ। जिसमें सृष्टि बाफना ने पहला स्थान हासिल किया है।

गांव में उत्‍सव का माहौल
सृष्टि बाफना होली पर दिल्ली से अपने गांव कुसुमकसा पहुंची तो पूरे परिवार और गांव में उत्सव जैसा माहौल हो गया । उसे बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है । इस सफलता के बाद सृष्टि खुद भी खुशी से फूली नहीं समा रही, उसने भारतीय स्पेस रिसर्च संस्थान में वैज्ञानिक पद पर चयनित होने पर अपने माता पिता और गुरुओं का आशीर्वाद बताया है।

2020 में परीक्षा, 2021 में इंटरव्‍यू
सृष्टि बाफना ने बताया कि भारतीय स्पेस रिसर्च की यह परीक्षा साल 2020 में आयोजित हुई थी, लेकिन कोविड-19 की वजह से इंटरव्यू आयोजित नहीं हो पाया । फिर साल 2021 में  इंटरव्यू हुआ, जिसके बाद फाइनल परिणाम मार्च के महीने में आया है । सृष्टि पढ़ने-लिखने में इतनी होशियार है कि उसका चयन इससे पहले ISRO, दिल्ली मेट्रो और कोल इंडिया तीनों प्रतियोगी परीक्षाओं में हो चुका है। इससे पहले इंडियन इंजीनियरिंग सर्विस की परीक्षा में भी उनका चयन हो चुका था। लेकिन वो बचपन से ही स्पेस रिसर्च से जुडऩा चाहती थी। कई वर्षों से वो इस पर काम कर रहीं थीं । अब उनका सपना पूरा हुआ है ।

0/Post a Comment/Comments