जानें कौन है कुख्यात नक्सल कमांडर हिडमा, 24 जवानों की शहादत के पीछे है जिसका हाथ..पूरी कुंडली - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, April 5, 2021

जानें कौन है कुख्यात नक्सल कमांडर हिडमा, 24 जवानों की शहादत के पीछे है जिसका हाथ..पूरी कुंडली

 

जानें कौन है कुख्यात नक्सल कमांडर हिडमा, 24 जवानों की शहादत के पीछे है जिसका हाथ..पूरी कुंडली

सुकमा और बीजापुर की सीमा से लगे जंगल में शनिवार को सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच हुई मुठभेड़ में 24 जवान शहीद हो गए, जबकि 31 घायल जवान अस्पताल में भर्ती हैं । वहीं इस मुठभेड़ में कई और जवान और लापता बताए जा रहे हैं । हमले का मास्टरमाइंड 25 लाख का ईनामी नक्सल कमांडर हिडमा बताया जा रहा है, माना जा रहा है कि आरोपी नक्सली मुठभेड़ के दौरान करीब 250 नक्सलियों को लीड कर रहा था। कौन है यह कुख्यात नक्सल कमांडर हिडमा, आगे पढ़ें ।

कई नामों से जाना जाता है हिडमा
इस कुख्‍यात नक्सल कमांडर का पूरा नाम माडवी हिडमा है, इलाके में ये संतोष उर्फ इंदमुल उर्फ पोडियाम भीमा जैसे कई और नामों से भी जाना जाता है । बीते 13 सालों में वो कई हमलों में शामिल रहा है और निर्मम हत्याओं के लिए कुख्यात है । पुलिस ने उसे पकड़ने के लिए 25 लाख का ईनाम तक घोषित किया हुआ है । हिडमा का नाम छत्तसीगढ़ के टॉप के नक्सल कमांडर में आता है।

आधुनिक हथियारों से लैस
माडवी हिडमा का सुकमा और बीजापुर गढ़ माना जाता है, यहां होने वाली सभी नक्सली गतिविधियों में उसका ही हाथ होता है। इलाके में इससे पहले भी जितने नक्सली हमले हुए हैं उनमें हिडमा की भूमिका शामिल रही है । वह अपनी जगह बदलता रहता है, कभी छत्तीसगढ़ तो कभी आंध्र प्रदेश और कभी  तेलंगाना के ठिकानों में बताया जाता है उसके पास हर तरह के आधुनिक हथियार हैं, उसकी टीम यूबीजीएल, रॉकेट लॉन्चर, एके 47 जैसे हथियारों से लैस हैं।

गांव में कोई स्‍कूल नहीं, हिडमा की हुकूमत
हिडमा सुकमा जिले के पुवर्ती गांव में पैदा हुआ है, यह जगह दुर्गम पहाड़ियों और घने जंगलों के बीच है। यहां तक पहुंचने में अब तक पुलिस टीमें भी सफल नहीं हो पाई हैं, बताया जाता है कि इस इलाके में पिछले 20 सालों से कोई स्‍कूल शुरू नहीं हो सकता है, यहां कोई टीचर जाना नहीं चाहता । बताया जाता है कि यहां केवल हिडमा का ही बोलबाला है, यहां पर उसकी सरकार चलती है। हिडमा की उम्र 40 साल के आसपास बताई जाती है। वो सिर्फ दसवीं तक पढ़ा है, उसकी अंग्रेजी फर्राटेदार है ।
स्‍मार्ट फोन भी करता है यूज
हिडमा स्मार्ट फोन का उपयोग करता है, उसके बारे में कहा जाता है कि वह अपने साथ एक नोट बुक लेकर चलता है । इस बुक में वह अपना पूरा शेड्यूल नोट करता है। पिछले साल मार्च के महीने में माडवी हिडमा ने सुकमा में हुए नक्सली हमले में 17 जवानों की जान ली थी । अप्रैल 2019 में भी उसने बीजेपी विधायक भीमा माडवी, उनके ड्राइवर और तीन सुरक्षाकर्मियों की नक्सलियों ने हत्या की थी।

No comments:

Post a Comment