मुकेश सहनी की वजह से नीतीश कुमार की फजीहत, मंत्री ने सरकारी कार्यक्रम में भाई को भेजा! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Sunday, March 7, 2021

मुकेश सहनी की वजह से नीतीश कुमार की फजीहत, मंत्री ने सरकारी कार्यक्रम में भाई को भेजा!

 

मुकेश सहनी की वजह से नीतीश कुमार की फजीहत, मंत्री ने सरकारी कार्यक्रम में भाई को भेजा!

बिहार विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने एक बार फिर सीएम नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेते हुए उनसे इस्तीफे की मांग की है, उन्होने इस बाबत किये अपने ट्वीट में लिखा, नीतीश कुमार अविलंब इस्तीफा दें, सीएम को ये भी नहीं पता, उनकी सरकार में क्या हो रहा है, एक मंत्री की जगह उनका हमशक्ल भाई अब तक अनेक जिलों में  शीर्षस्थ पदाधिकारियों की उपस्थिति में सरकारी योजनाओं का उद्घाटन कर चुका है, सीएम को सत्ता में बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

कार्रवाई की मांग
इस ट्वीट से पहले किये गये एक ट्वीट में तेजस्वी यादव ने लिखा, मंत्री के हमशक्ल से उद्घाटन कराने और प्रोटोकॉल का उल्लंघन करने वाले दोषी पदाधिकारियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिये। तेजस्वी का ट्वीट तेजी से वायरल हो रहा है।

ये है पूरा मामला
दरअसल बिहार सरकार के पशुपालन तथा मत्स्य विभाग मंत्री मुकेश सहनी के बदले उनके भाई संतोष सहनी एक सरकारी कार्यक्रम में शामिल हुए थे, इसी बात पर प्रदेश की सियासत में बवाल मचा हुआ है, इस मुद्दे को लेकर तेजस्वी ने मीडिया से भी बात की, mukesh shanaiनेता प्रतिपक्ष तेजस्वी ने मुकेश सहनी पर तंज कसते हुए नीतीश पर हमला बोला है, उन्होने पूछा कि क्या नीतीश बिजी रहेंगे, तो अपनी जगह सदन में अपने बेटे को भेज देंगे, ये कितनी अजीब बात है, मीडिया से बात करते हुए तेजस्वी ने कहा कि मुकेश सहनी दबे, कुचलों और पीड़ितों की हक की बड़ी-बड़ी बात करते हैं, क्या मुकेश सहनी को पिछड़ा समाज का कोई कार्यकर्ता नहीं मिला, जिसे इस कार्यक्रम में भेज सकते थे।

जमीन पर कुछ काम नहीं
तेजस्वी यादव ने कहा कि मुकेश सहनी ने जमीन पर तो कुछ काम किया नहीं है, वो जमीनी हकीकत जानते नहीं हैं, उन्होने कभी चुनाव नहीं जीता, Mukesh sahniऐसे आदमी को सीएम नीतीश ने मंत्री बना दिया है, इसमें मंत्री मुकेश सहनी की नहीं बल्कि सीएम नीतीश कुमार की गलती है, जिन्होने मुकेश सहनी जैसे लोगों को मंत्री बना दिया।

No comments:

Post a Comment