रातों-रात बदल गई सब्जी बेचने वाले की किस्मत, सड़क से सीधे नगरनिगम चेयरमैन की कुर्सी पर बैठा

 

रातों-रात बदल गई सब्जी बेचने वाले की किस्मत, सड़क से सीधे नगरनिगम चेयरमैन की कुर्सी पर बैठा

आपने ये कहावत तो सुनी ही होगी, देने वाला जब भी देता-देता छप्‍पर फाड़ के । जी हां, कुछ ऐसा ही हुआ आंध्र प्रदेश के रायचोटी में, जहां सब्जी बेचने वाले एक युवक को सीधे नगरपालिका का अध्यक्ष बना दिया गया । शेख बाशा नाम का ये शख्स बेरोजगारी के चलते गांव में सब्जी बेच कर अपना जीवन यापन कर रहा था । लेकिन बाशा की किस्‍मत तब पलट गई जब उसे आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने रायचोटी नगर पालिका का अध्यक्ष चुन लिया है।

ग्रेजुएट है शेख बासा
दरअसल शेख बाशा ग्रेजुएट है, लेकिन नौकरी ना मिलने के कारण वो गांव में सब्जी बेचने को मजबूर था। बाशा के मुताबिक तमाम डिग्रियां होने के बावजूद भी जब उसे नौकरी नहीं मिली तो उसे सब्जियां बेचकर घर चलाना पड़ा । बाशा ने कहा कि मेरी जिंदगी में कोई दिशा नहीं थी लेकिन वाईएसआर कांग्रेस ने मुझे पहले पार्षद का चुनाव लड़ने का मौका दिया और अब नगर पालिका का अध्यक्ष बना दिया। इसके लिए उन्होंने मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी शुक्रिया अदा किया।

पार्षद का चुनाव जीता
दरअसल, वाईएसआर कांग्रेस पार्टी ने शेख बाशा को पार्षद का चुनाव लड़ने का मौका दिया था । चुनावों में उन्होंने भारी मतों से जीत दर्ज की । इस बड़ी जीत के बाद वाईएसआर के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी ने बाशा के जीत के आंकडों पर नजर डाली और इसके बाद उन्होंने बाशा को नगर पालिका का अध्यक्ष नियुक्त कर दिया।

YSR का बोलबाला
आंध्र प्रदेश में पिछले हफ्ते ही नगरीय निकाय चुनाव संपन्‍न हुए थे, इन चुनावों में वाईएसआर का दबदबा रहा । 86 नगर पालिकाओं/नगर निगमों में से 84 पर रेड्डी की पार्टी ने कब्जा किया है । महापौर और अध्यक्षों के चुनाव में महिलाओं को 60.47 फीसद और पिछड़े वर्ग के उम्‍मीदवारों को 78 फीसदी पद दिए गए हैं।

0/Post a Comment/Comments