Antalia Bomb Case- विस्फोटक, लग्जरी कार, मर्डर, नेता, पुलिसवाले, नोट मशीन, एकदम फिल्मी है अब तक की कहानी! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, March 22, 2021

Antalia Bomb Case- विस्फोटक, लग्जरी कार, मर्डर, नेता, पुलिसवाले, नोट मशीन, एकदम फिल्मी है अब तक की कहानी!

 

Antalia Bomb Case- विस्फोटक, लग्जरी कार, मर्डर, नेता, पुलिसवाले, नोट मशीन, एकदम फिल्मी है अब तक की कहानी!

महाराष्ट्र एटीएस ने व्यवसायी मनसुख हिरेन कथित हत्याकांड में रविवार को दो लोगों को गिरफ्तार किया है, गिरफ्तार किये गये शख्स में एक पुलिसकर्मी विनायक शिंदे है, तो दूसरा सट्टेबाज नरेश गोरे, एटीएस ने इसमें निलंबित पुलिस अधिकारी सचिन वझे को मुख्य आरोपी बनाया है, मनसुख हिरेन का शव 5 मार्च को मिला था, लेकिन ये पूरा मामला 25 फरवरी तक जाता है, जब उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटकों से लदी स्कॉर्पियों मिली थी, बाद में मनसुख ने बताया था कि ये उसकी कार है जो हाइवे से गायब हो गई थी। 25 फरवरी से 21 मार्च के बीच क्या-क्या हुआ, आइये आपको बताते हैं।

25 फरवरी- मुकेश अंबानी के सिक्योरिटी ने पुलिस को बताया कि उनके आवास एंटीलिया के बाहर एक लावारिस स्कॉर्पियों खड़ी मिली। बम स्क्वॉड ने कार की तलाशी ली, तो उसमें विस्फोटक जिलेटिन की 20 छड़े, एक धमकी भरा खत और 4 फर्जी नंबर प्लेट मिली, जो अंबानी के काफिले की कारों से मिलती जुलती थी, गामदेवी पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया।
26 फरवरी- क्राइम इटेलिजेंस यूनिट के असिस्टेंट पुलिस इंस्पेक्टर सचिन वझे को पूरे मामले की जांच सौंप दी गई।
27 फरवरी- ठाणे निवासी मनसुख हिरेन ने दावा किया, कि बरामद स्कॉर्पियो उनकी है, जो 17 फरवरी से गायब है, वो कार को विखरोली हाइवे पर तकनीकी खराबी आने के बाद छोड़ा था। लेकिन सीसीटीवी फुटेज में देखा गया कि सुबह 2.18 बजे एक अज्ञात शख्स स्कॉर्पियो को एंटीलिया के पास पार्क किया, सफेद रंग की इनोवा कार में बैठकर चला गया, ये इनोवा स्कॉर्पियो के पीछे-पीछे चल रही थी, सुबह 3.05 बजे ये फर्जी नंबर प्लेट वाली कार मुलुंड टोल नाके पर देखी गई। ठाणे से एंटीलिया तक जितनी भी सीसीटीवी फुटेज मिली, उनमें दोनों की कारों के ड्राइवरों के चेहरे साफ नहीं थे।

4 मार्च- मनसुख हिरेन घर से निकले लेकिन वापस नहीं लौटे।
5 मार्च- हिरेन का शव मुंब्रा खाड़ी में मिला।
6 मार्च- महाराष्ट्र एटीएस ने केस अपने हाथ में ले लिया।
8 मार्च-  केन्द्र ने एनआईए को जांच का नोटिफिकेशन जारी कर दिया।
13 मार्च- एनआईए ने सचिन वझे को स्कॉर्पियो में विस्फोटक रखने के आरोप में गिरफ्तार किया।

15-19 मार्च- एनआईए ने सचिन वझे को पुलिस हेडक्वार्टर स्थित ऑफिस से कंप्य़ूटर का सीपीयू, कागगात, एक मर्सिडीज जब्त की, मर्सिडीज में 5.7 लाख रुपये और एक नोट गिनने की मशीन भी थी, इसके अलावा एक टोयोटा प्राडो कार भी जब्त की गई।
19 मार्च- मुंबई पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह का ट्रांसफर कर दिया गया, उनकी जगह हेमंत नागराले नये पुलिस कमिश्नर बने।
20 मार्च- परमबीर सिंह ने सीएम उद्धव ठाकरे को एक लेटर भेजा, जिसमें उन्होने आरोप लगाया कि प्रदेश के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने वझे से हर महीने 100 करोड़ रुपये वसूलने को कहा था।
21 मार्च- बीजेपी ने अनिल देशमुख के इस्तीफे की मांग करते हुए पूरे महाराष्ट्र में विरोध प्रदर्शन किया। एटीएस ने मनसुख केस में विनायक शिंदे और सट्टेबाज नरेश गोरे को गिरफ्तार कर लिया।

No comments:

Post a Comment