संगीनों के साए में निकली बारात, गांव में तैनात किए गए 120 जवान, तब घोड़ी पर सवार हो सका दूल्‍हा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, March 8, 2021

संगीनों के साए में निकली बारात, गांव में तैनात किए गए 120 जवान, तब घोड़ी पर सवार हो सका दूल्‍हा

 

संगीनों के साए में निकली बारात, गांव में तैनात किए गए 120 जवान, तब घोड़ी पर सवार हो सका दूल्‍हा

गुजरात के साबरकांठा में कड़ी सुरक्षा में एक बारात निकली, जिसे देख सब हैरान ही रह गए । मामला वडाली तहसील के भजपुरा गांव का है, जहां पुलिसवालों की फौज के साथ दूल्हा घोड़ी पर चढ़कर बारात लेकर रवाना हुआ । पूरा मामला समाज के उस हिस्‍से से जुड़ा है, जिसे आज भी डरा धमाकर नीचे झुककर चलने को मजबूर किया जाता है । गांव के एक दलित परिवार को दबंगों ने डरा धमकाकर बारात ना निकालने को कहा था, जिसके बाद शादी में कुछ ऐसा नजारा देखने को मिला ।

दबंगों ने बारात ना निकालने की दी थी धमकी
जानकारी के अनुसार गांव के कुछ दबंगों ने बारात में बैंड बाजे और दलित युवक के घोड़ी चढ़कर बारात निकालने का विरोध किया था, जिसके बाद दलित परिवार ने पुलिस से इस मामले में मदद मांगी । जिले में इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामने आ चुके हैं, जहां दलित परिवार के साथ दबंग ऐसा बर्ताव करते आए हैं  ।

120 जवान थे तैनात
भाजपुरा में जब एक दलित युवक को शादी के दौरान बारात निकालने से दबंगों ने रोका तो परिवार ने पुलिस से इसकी शिकायत की, जिसके बाद प्रशासन ने अतिरिक्त इंतजाम किए थे । इस मौके पर पूरे गांव में पुलिस के 120 जवानों को तैनात किया गया था । शनिवार को हुई इस शादी में पुलिसिया इंतजामात को लेकर शहर के पुलिस आयुक्त डी एम चौहान ने बताया कि नरेश वंकार के बेटे दुर्लभ की बारात ग्रामीणों के सहयोग से पूरे शांतिपूर्ण तरीके से निकाली गई है।

समाज में ऐसा भेदभाव क्‍यों ?
अपनी शादी पर दबंगों के डर के बाद पुलिस की सुरक्षा के बीच घोड़ी पर सवार दूल्हे ने कहा कि 21वीं सदी में भी पुलिस की मौजूदगी भारी सुरक्षा के बीच शादी करना अच्छी बात नहीं है । सामाजिक भेदभाव के कारण अब भी हालात ऐसे बने हुए हैं । दूल्‍हे ने कहा कि शादी पर कुछ अनहोनी होने की संभावना देखते हुए उन्होंने खुद ही साबरकांठा जिला पुलिस के उच्च अधिकारियों से बात की और शादी के लिए सुरक्षा मांगी थी । पुलिस ने पूरा सहयोग किया और नतीजा ये रहा कि दूल्हे ने बिना किसी डर के पूरी धूमधाम से अपनी बारात की सभी रस्मों को पूरा किया।

No comments:

Post a Comment