गौरा के गौना में गूंजेगा नादस्वरम् और बंगाल का ढाक, बारात में शामिल होंगे डमरूदल और 108 शंखनादी - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Tuesday, March 23, 2021

गौरा के गौना में गूंजेगा नादस्वरम् और बंगाल का ढाक, बारात में शामिल होंगे डमरूदल और 108 शंखनादी


वाराणसी।
 धर्म और आध्यात्म नगरी काशी में बाबा विश्वनाथ के गवना की तैयारी शुरू हो चुकी है। महिलाओं ने सुहाग के पारंपरिक गीत गाए जाने के साथ रस्म की शुरूआत कर दी है। गौरा की तेल-हल्दी की रस्म शुरू हो चुकी। मंगलवार को बाबा विश्वनाथ गणों के साथ अपनी ससुराल पहुंचेंगे। 24 मार्च को रंगभरी एकादशी के दिन गौना बारात निकलेगी। गौना की बारात में डमरूदल और शंखनाद करने वाले 108 सदस्य शामिल होंगे। गौना की बारात में नादस्वरम् और बंगाल का ढाक भी गूंजेगा। मथुरा के गुलाब के फूलों के गुलाल से बाबा के भक्तों संग होली खेलने के साथ काशी में होलियाना अंदाज शुरू जाएगा। रंगभरी एकादशी से रंगोत्सव की शुरुआत हो जाएगी। मंदिर के महंत डॉ. कुलपति तिवारी का टेढ़ीनीम स्थित आवास मां गौरा का मायका बना है।

काशी की है परम्परा काशी की लोक पंरपरा में महाशिवरात्रि के दिन महादेव और महामाया के विवाह उपरांत रंगभरी एकादशी के दिन भगवान शंकर मां पार्वती का गौना कराते हैं। काशी की यह परम्परा 356 वर्षों से निरंतर निभाई जा रही है। रंगभरी एकदषी के दिन दूल्हे के रूप में सजे बाबा विशवनाथ रजत पालकी में सवार होकर मां गौरा का गौना लेने निकलेंगे। काशी के लोग इस दिन बाबा विश्वनाथ और गौरा को रंग अर्पित कर होली के हुड़दंग षुरू कर देते हैं। गौना की रस्म से पहले किए जाने वाले लोकाचार की शुरुआत रविवार को मां गौरा का मायका बने महंत आवास पर हो चुकी है। 22 मार्च यानी आज गौरा की तेल-हल्दी की रस्म होगी। 23 मार्च को बाबा के ससुराल आगमन के अवसर पर 11 ब्राह्मणों द्वारा स्वस्तिवाचन होगा। वैदिक घनपाठ और दीक्षित मंत्रों से आराधना कर बाबा विश्वनाथ को रजत सिंहासन पर विराजमान कराया जाएगा।

खादी के परिधान में होंगे बाबा और गौरा
रंगभरी एकादशी के दिन यानी 24 मार्च को मुख्य अनुश्ठान की शुरुआत ब्रह्म मुहूर्त में होगी। 11 ब्राह्मण बाबा विश्वनाथ का रुद्राभिषेक करेंगे। इसके बाद पंचगव्य से स्नान और षोडशोपचार पूजन होगा। सुबह नौ बजे से बाबा का श्रृगार होगा। दूल्हा बने बाबा की आंखों में लगाने के लिए काजल विश्वनाथ मंदिर के खप्पड़ से लाया जाएगा तो गौरा के माथे पर सजाने के लिए सिंदूर पंरपरानुसार अन्नपूर्णा मंदिर के मुख्य विग्रह से आएगा। गौना बारात में बाबा विश्वनाथ खादी के कपड़े पहनेंगे और सिर पर खास पगड़ी बांधी जाएगी। शाही परिधान में बाबा और गौरा रहेंगी। गौना बारात के लिए 151 किलो गुलाब मथुरा से मंगाया गया है।

महाश्मशान में चिता भस्म से होली
रंगभरी एकादशी के अगले दिन 25 मार्च को भोले के भक्त महाश्मशान मणिकर्णिका घाट पर चिताओं से निकली भस्म से होली खेलेंगे।

No comments:

Post a Comment