10 लाख घूस लेने वाली SDM पिंकी को 65 दिन बाद मिली खुशखबरी, शादी के 5 दिन बाद लौट गईं थी जेल - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, March 20, 2021

10 लाख घूस लेने वाली SDM पिंकी को 65 दिन बाद मिली खुशखबरी, शादी के 5 दिन बाद लौट गईं थी जेल

 

10 लाख घूस लेने वाली SDM पिंकी को 65 दिन बाद मिली खुशखबरी, शादी के 5 दिन बाद लौट गईं थी जेल

घूस लेने की आरोपी एसडीएम पिंकी मीणा को 65 दिन बाद शुक्रवार को जमानत मिल गई । ये जमानत हाईकोर्ट की जयपुर बेंच में जस्टिस इंद्रजीत सिंह ने उनकी जमनान याचिका पर सुनवाई करते हुए दी है । आपको बता दें कि एसडीएम अपनी शादी के लिए पिछले महीने जेल से 10 दिन की सशर्त छु्ट्टी लेकर बाहर आई थीं, एक जज से शादी करने के बाद उन्‍होंने 5 दिन बाद ही सरेंडर कर दिया था ।


ये है मामला
दरअसल, दौसा जिले में हाइवे बनाने वाली एक कंपनी से रिश्वत में मोटी रकम मांगने का मामला सामने आया था। उस समय जयपुर मुख्यालय से दौसा गई एसीबी की टीम ने एसडीएम दौसा आएस पुष्कर मित्तल को 5 लाख रुपए की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। इसके साथ ही एसडीएम बांदीकुई आरएस पिंकी मीणा को कंपनी से 10 लाख रुपए की रिश्वत मांगने के मामले में गिरफ्तार किया था। जिसके बाद से, वो जेल में थीं । 14 जनवरी से उन्‍हें 65 दिन हो गए हैं, इस बीच शादी के लिए बीच में उनको 10 दिन की अंतरिम जमानत मिली थी।
16 फरवरी की थी शादी
एसडीएम पिंकी मीणा को हाईकोर्ट ने 11 फरवरी को 10 दिन की अंतरिम जमानत दी थी। जिसके बाद वो जेल से बाहर आई थी और 16 फरवरी को जज से शादी की । शादी के 5 दिन बाद 21 फरवरी को उन्‍होंने दोबारा कोर्ट में सरेंडर कर दिया था, जिसके बाद पिंकी मीणा को जेल भेज दिया गया । तब से वो जयपुर में घाटगेट स्थित महिला जेल में बंद हैं। एसडीएम पिंकी मीणा की ओर से वकील वीआर बाजवा ने  कहा कि मामले में ACB की तरफ से जांच पूरी हो चुकी है। कोर्ट में चालान भी पेश किया जा चुका है। वे महिला हैं। उनकी 16 फरवरी को ही शादी हुई। इसके बाद से वे लगातार जेल में बंद हैं। ऐसे में उनको जमानत दी जानी चाहिए।
सरकार ने किया विरोध
वहीं सरकारी पक्ष के वकील विभूति भूषण शर्मा ने पिंकी मीणा को जमानत देने का विरोध किया। उन्‍होंने अपनी दलील में कहा कि SDM के पद पर रहते हुए पिंकी मीणा ने 10 लाख रुपए की रिश्वत मांगी। उनको जमानत देने के बजाए न्यायिक अभिरक्षा में ही रखना चाहिए, ताकि भ्रष्टाचार करने वालों के बीच कड़ा संदेश जाए।

No comments:

Post a Comment