Rail Budget- किसान रेल से बढेगी किसानों की आय, खर्च बढाने की हो सकती है घोषणा!

 

Rail Budget- किसान रेल से बढेगी किसानों की आय, खर्च बढाने की हो सकती है घोषणा!

1 फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने 2021-22 का बजट पेश किया, ये मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का तीसरा बजट है, उम्मीद की जा रही है कि किसान की उन्नति को प्राथमिकता देने का दावा करने वाली सरकार आगामी बडट में किसान रेल तथा कृषि उड़ान योजना पर खर्च को बढाएगी, कोरोना महामारी की वजह से इस पर भी बुरा असर पड़ा है, ऐसे में किसान रेल तथा कृषि उड़ान योजना को बढावा देकर किसानों को ज्यादा से ज्यादा फसल की कीमत दिलाने की कोशिश करेगी, मालूम हो कि 2017 से पहले रेल बजट को आम बजट से अलग पेश किया जाता था, लेकिन अब आम बजट के साथ ही रेल बजट पेश किया जाता है।

किसानों की आय बढाना है उद्देश्य
किसानों की उन्नति के लिये पिछली बार के बजट में सरकार ने किसान रेल की घोषणा की थी, जिसके तहत अब तक देश भर में 18 रुटों पर इसकी शुरुआत की जा चुकी है, कोरोना काल में रेलवे के साथ ही किसान को भी खासा नुकसान हुआ था, मौजूदा स्थितियों को देखकर और किसान ट्रेनों की बात बजट में हो सकती है।

50 फीसदी की सब्सिडी
केन्द्रीय बजट 2020-21 में घोषणा के बाद पिछले साल 7 अगस्त को देवलाली (महाराष्ट्र) और दानापुर (बिहार) के बीच पहली किसान रेल चलाई गई थी, जिसके तहत दूध, मीट और मछली समेत जल्दी खराब होने वाले खाद्य पदार्थ तथा कृषि उत्पादों की ढुलाई की जाती है, किसान रेल के जरिये किसानों को फल तथा सब्जियों के परिवहन पर 50 फीसदी की छूट दी जाती है।

राजस्व बढाने के लिये किसानों और मालगाड़ी पर फोकस
डेडिकेटेड फ्रंट कॉरिडोर के कुछ हिस्से इस साल शुरु होंगे, इससे माल ढुलाई को मजबूती मिलेगी, रेलवे को राजस्व बढाने के लिये माल ढुलाई पर भी फोकस करना है, ये मल्टी कमोडिटी, मल्टी कंसाइनर/कंसाइनी, मल्टी लोडिंग, अनलोडिंग परिवहन सेवा है, जिसका उद्देश्य किसानों को बड़े स्तर पर बाजार उपलब्ध कराना है, किसान रेल सेवा का मुख्य उद्देश्य उत्पादन केन्द्रों को बाजार और उपभोक्ता केन्द्रों से जोड़कर कृषि क्षेत्र की आय को बढाना है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

0/Post a Comment/Comments