Chanakya Niti: इन दो श्लोकों में छिपा है सम्मान भरे जीवन का रहस्य - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Tuesday, February 23, 2021

Chanakya Niti: इन दो श्लोकों में छिपा है सम्मान भरे जीवन का रहस्य


Chanakya

 भारत के श्रेष्ठ विद्वानों में चाणक्य(Chanakya ) का नाम सबसे पहले नंबर पर आता है. अगर चाणक्य की दी हुई शिक्षा की बात करें, तो उनके बताए गए निर्देशों के अनुसार चलने पर जीवन में सफलता मिलना अनिवार्य है. उनकी बातें और उनके द्वारा दी गईं शिक्षा व्यक्ति को सफलता की ओर ले जाती है. विश्व प्रसिद्ध तक्षशिला विश्व विद्यालय से चाणक्य का संबंध था. वहां पर चाणक्य विद्यार्थियों को शिक्षा प्रदान करते थे. चाणक्य को कई बहुत से विषयों का ज्ञान भी थी. चाणक्य को अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, राजनीति शास्त्र के साथ साथ सैन्य विज्ञान तथा कूटनीति शास्त्र का भी ज्ञान रखते थे. चाणक्य के ज्ञान बहुत विशाल था. चाणक्य के अनुसार व्यक्ति को सफलता पाने के लिए कुछ खास गुणों का होना जरूरी नहीं हैं. कभी कभी सफल होने के लिए व्यक्ति का एक गुण ही काफी होता है. चाणक्य के अनुसार एक श्रेष्ठ गुण ही व्यक्ति को बुलंदी पर पहुंचा सकता है. चाणक्य ने दो श्लोक बताए है, जिनके जरिए आप अपने जीवन में सफल हो सकते हैं.

पहला श्लोक

एकेनापि सुवर्ण पुष्पितेन सुगंधिना।

वसितं तद्वनं सर्वं सुपुत्रेण कुलं यथा।

 चाणक्य द्वारा बताए इस श्लोक का अर्थ है कि जिस व्यक्ति के पास गुण होते हैं वो अपने एक गुण से ही सब लोगों पर अपना अच्छा प्रभाव छोड़ सकता है. उसका एक गुण ही उसकी पहचान बन जाता है. चाणक्य का कहना हैं कि जिस भाति से पूरे उपवन में सुंदर फूलों वाला केवल एक पौधा ही अपनी महक से पूरे उपवन को महका देता है, ठीक उसी की भांति एक अच्छा बेटा अकेले ही अपने पूरे खानदान का नाम रोशन करने के लिए पर्याप्त होता है.

दूसरा श्लोक

एकेन शुष्कवृक्षेण दह्ममानेन वहिृना।

दह्मते तद्वनं सर्वं कुपुत्रेण कुलं यथा।

चाणक्य के इस दूसरे श्लोक का मतलब ये है कि जिस तरह से अगर सूखे जंगल में आग लगती है, तो समग्र जंगल जल के राख हो जाता है, ठीक उसी तरह अगर परिवार में एक कुपुत्र पैदा हो जाता है, तो पूरे खानदान के यश को मिट्टी में मिला के रख देता है. चाणक्य की इन दोनों ही बातों से आशय ये है कि गुण से युक्त व्यक्ति सम्मान पाता है और अवगुणों वाला व्यक्ति हर जगह अपयश का ही भागीदार होता है, इसलिए जीवन में हमेशा गुणों का समावेश करना चाहिए.

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment