किसान आंदोलन पर ट्वीट कर फंसे सचिन तेंदुलकर, राजद नेता बोले- ‘उन्हें भारत रत्न देना सम्मान का अपमान है’ - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Friday, February 5, 2021

किसान आंदोलन पर ट्वीट कर फंसे सचिन तेंदुलकर, राजद नेता बोले- ‘उन्हें भारत रत्न देना सम्मान का अपमान है’

 

SACHIN TENDULKAR

नई दिल्ली। कृषि कानून के खिलाफ चल रहा आंदोलन अब काफी व्यापक रूप ले चुका है। अब इस मामले में खेल और बॉलीवुड हस्तियां भी कूद चुकी हैं। कोई किसान आंदोलन का समर्थन कर रहा है, तो कोई इस मुद्दे पर सरकार के साथ खड़ा नजर आ रहा है। इसी कड़ी में क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने भी किसान आंदोलन को लेकर ट्वीट कर दिया है, जिस पर उन्हें अब एक राजद नेता के कोप का भाजन बनना पड़ रहा है।

राजद के बड़े नेता शिवानंद तिवारी ने उन पर निशाना साधते हुए कहा ही कि सचिन को भारत रत्न देना सम्मान का अपमान करने के बराबर है। राजद नेता शिवानंद तिवारी के ‘भारत रत्न’ जैसे देश के सर्वोच्च सम्मान पर उंगली उठाने से अब इस पर विवाद पैदा हो गया है। लोग उन पर देश का अपमान करने का आरोप लगा रहे हैं। बता दें कि उन्होंने सचिन को भारत रत्न देने का विरोध तब भी किया गया था जब उनकों इस सम्मान के लिए चुना गया था। अब उनका कहना है कि सचिन तेंदुलकर को भारत रत्न देने का फैसला सही नहीं था। उन्होंने कहा इतना सर्वोच्च सम्मान पाने वाले लोग अलग अलग ब्रांड का प्रचार करते हैं। इससे ‘भारत रत्न’ का ही अपमान हो रहा है।

हालिया ट्वीट पर जताई नाराजगी

राजद नेता ने सचिन के उस हालिया ट्वीट पर नाराजगी जताई है जिसमें उन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन करने वाले उन विदेश हस्तियों को करारा जवाब देते हुए सरकार का समर्थन किया है। सचिन तेंदुलकर (Sachin Tendulkar) ने ट्वीट किया था ‘भारत की संप्रभुता से समझौता नहीं किया जा सकता। विदेशी ताकतें दर्शक हो सकती हैं, लेकिन प्रतिभागी नहीं। भारत को भारतीय जानते हैं और वे ही भारत के लिए फैसला लेंगे। एक देश के रूप में एकजुट होने की जरूरत है।’

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment