आखिर ब्रह्मांड में कितने हैं ब्लैक होल? वैज्ञानिकों के निर्मित मैप से हुआ खुलासा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Sunday, February 21, 2021

आखिर ब्रह्मांड में कितने हैं ब्लैक होल? वैज्ञानिकों के निर्मित मैप से हुआ खुलासा


 ऐस्ट्रॉनॉमर्स द्वारा महाविशाल ब्लैक होल (Supermassive Black Holes) का सबसे ज्यादा डीटेल्स वाला एक मैप तैयार किया गया है। जितने भी ब्लैक होल ब्रह्मांड में ऐस्ट्रोनॉमर्स को पता हैं,  इसमें उन्होंने इन सभी को इसमें शामिल किया गया है। इस मैप को मैप को देखने से ही इस बात का पता लगता है कि जितना कठिन SBH को माना जाता है, यह उससे भी कहीं ज्यादा संख्या में हैं। SBH ब्लैक होल वे होते हैं, जिनका द्रव्यमान (mass) सूरज के द्रव्यमान की अपेक्षा 10 अरब गुना ज्यादा होता है। साधारण ब्लैक होल का द्रव्यमान सूरज से 7 अरब गुना अधिक होता है।

कैसे बनते हैं ब्लैक होल

आपकों बता दें कि जो मरे हुए सितारें होते है उन के फटने या न्यूट्रॉन सितारों की टक्कर से इन ब्लैक होल की उत्पत्ति होती हैं और इनकी वजह से ही स्पेस-टाइम बदल जाता है। इनका गुरुत्वाकर्षण बल अधिक होता है, जिसके कारण रोशनी भी इनसे बाहर नहीं आ सकती। इसके लिए ऐस्ट्रोनॉमर्स ने एक मैप का निर्माण किया है, जिसमें काले बैकग्राउंड पर एक सफेद डॉट से एक SBH को दिखाया गया है। यह मैप ऐस्ट्रोनॉमी ऐंड ऐस्ट्रोफिजिक्स में छपा है। इसमें 25000 SBH दिख रहे हैं, जबकि ब्रह्मांड में SBH की मात्रा इससे कहीं ज्यादा हैं। दरअसल, इस मैप को बनाने वाला डेटा उत्तरी गोलार्ध के आसमान के सिर्फ 4% हिस्से से लिया गया है।

इस तरह से बना मैप

टीम ने इस मैप का निर्माण करने के लिए 52 लो-फ्रीक्वेंसी टेलिस्कोप LOFAR की मदद ली है। ये टेलिस्कोप SBH के बेहद करीब जाने वाले मैटर से हो रहे रेडियो उत्सर्जन को डिटेक्ट करते हैं। इस बारे में मेन रिसर्चर फ्रांचेस्को डि गास्पेरीन ने बताया है कि बेहद मुश्किल डेटा पर कई साल की मेहनत के बाद यह नतीजा निकला है। रेडियो सिग्नल्स को आसमान में तस्वीर उकेरने के लिए नए तरीके इजाद किए गए। उत्तरी गोलार्ध के आसमान से 265 घंटों के डेटा को जोड़कर यह मैप बना है। धरती की ionosphere परत रेडियो तरंगों पर असर डालती है जिससे ऑब्जर्वेशन मुश्किल होता है।

SBH का निर्माण

एक थ्योरी के अन्तर्गत ऐसा माना गया है कि बिग-बैंग के साथ ही ये SMBH पैदा हुए थे, जिस प्रक्रिया को Direct Collapse (डायरेक्ट कोलैप्स) कहा गया है। इसके अनुसार तय न्यूनतम आकार के विशाल SMBH पैदा हुए जिनका mass हमारे सूरज से लाखों गुना ज्यादा था।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment