किसी भी शुभ काम की करें इस दिशा से शुरुआत, सफलता चूमेगी कदम

 

दिशाओं का असल महत्व वास्तु शास्त्र में बताया गया है। हर दिशा के अलग-अलग दिग्पाल देवता होते हैं और उसका एक ग्रह स्वामी होता है। व्यक्ति के भाग्य में दिशाएं काफी महत्व रखती हैं, जिसका प्रभाव उसके कार्य और व्यवहार पर पड़ता है। वास्तु का ध्यान रखकर अगर ऑफिस बनाया जाए और उसमे काम करते समय दिशा का ख्याल रखा जाये तो आप अपने काम में निश्चित ही सफल होंगे।

  • उत्तर की दिशा सफकता की दिशा मानी जाती है, जिसके दिग्पाल कुबेर हैं। अगर किसी भी कार्य में सफलता पानी है तो नए काम की शुरुआत उत्तर दिशा में मुख करके ही करें।
  • घर में पूजा का स्थान होना जरुरी है। इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है। पूजा करते समय व्यक्ति को अपना मुख पश्चिम दिशा की तरफ रखना चाहिए। या फिर वो अपना मुख पूर्व दिशा की तरफ करके भी पूजा कर सकता है। ये शुभ है।
  • अगर आप एक विद्यार्थी है तो आपको पढ़ाई पूर्व दिशा की ओर मुंह करके करनी चाहिए। ये दिशा पढ़ाई के लिए काफी शुभ है। वास्तु के अनुसार इस दिशा में पढ़ाई करने से बच्चों का मन पढ़ाई में लगा पाता है, जिससे उन्हें सफलता मिलती है।
  • अगर आपका कोई व्यवसाय है तो आपको अपने ऑफिस या फिर दुकान में उत्तर दिशा में ही मुख करके बैठना चाहिए। इस दिशा में बैठने से आपके भाग्य में बदलाव होगा और काम में सफलता मिलेगी।
  • वास्तु में घर की रसोई की सही दिशा को लेकर भी बताया गया है। रसोई में खाना बनाने वाले शख्स का मुख हमेशा पूर्व या उत्तर-पूर्व दिशा की तरफ होना चाहिए।
  • खाना खाते समय भी दिशा का ध्यान रखा जाता है। वास्तु के अनुसार पूर्व या फिर उत्तर दिशा की तरफ मुख करके बैठकर खाना खाना चाहिए।

0/Post a Comment/Comments