पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने भारतीय क्रिकेट की दीवार की जमकर की तारीफ - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, January 18, 2021

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने भारतीय क्रिकेट की दीवार की जमकर की तारीफ

 


दिल्ली। क्रिकेट में वरिष्ठ खिलाड़ी हमेशा दूसरों के खेल पर बारीकी नजर रखते हैं। पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान इंजमाम उल हक ने भारतीय क्रिकेटर राहुल द्रविड़ की जमकर तारीफ किया है। पाकिस्तान के कई पूर्व क्रिकेटर यूट्यूब चैनल बनाकर क्रिकेट से जुड़े अपने अनुभवों को साझा कर रहे हैं। यूट्यूब चैनल पर क्रिकेट और खिलाड़ियों के संस्मरण साझा कर रहे हैं। साथ ही कुछ अनछुए पहलुओं को भी दर्शकों को बता रहे हैं। भारत के पूर्व दिग्गज बल्लेबाज राहुल द्रविड़ की तारीफ पूर्व पाकिस्तानी कप्तान इंजमाम-उल-हक ने उनकी बेहतरीन पारियां के साथ की है। इंजमाम ने उनको एक बताया है। अपने यूट्यूब चैनल पर इंजमाम-उल-हक ने अपने यूट्यूब चैनल पर राहुल द्रविड़ की तारीफ करते हुए कहा कि मैंने उनको पहली बार कनाडा में खेलते हुए देखा था। किसी ने मुझे बताया कि वह नया लड़का बहुत अच्छा खेलता है। तब मुझे लगा कि उनपर नजर रखनी चाहिए। पाकिस्तान टीम के पास वकार यूनुस और वसीम अकरम जैसे तेज गेंदबाज थे। दोनों की स्पीड और स्विंग से युवा बल्लेबाज घबराते थे। उस समय दोनों गेंदबाजों को खेलना कठिन था। युवाओं के लिए वसीम और वकार यूनुस का नाम ही काफी था।

द्रविड़ ने उनकी गेदों को जैसे खेला उससे साफ हो गया कि वह स्पेशल हैं और भारतीय क्रिकेट के लिए दीवार साबित हुए। इंजमाम ने कहा कि जब स्पिनर राउंड द विकेट गेंदबाजी करते हैं तो खेलना आसान नहीं होता है। कोलकाता में खेले गए एक टेस्ट मैच के दौरान मैंने दानिश कनेरिया से कहा कि वह राउंड द विकेट गेंदबाजी करें लेकिन वह और तेजी से रन बनाने लगे। राहुल द्रविड़ प्रत्येक गेंदबाज को आसानी से खेलते थे।

मैंने बहुत से बल्लेबाजों को राउंड द विकेट गेंद खेलने में समस्या आती है लेकिन द्रविड़ बहुत आसानी से खेल रहे थे। 50 वर्षीय पाकिस्तान के पूर्व कप्तान ने इससे पहले अपने चैनल पर पाकिस्तान चयन समिति की जमकर आलोचना की थी। उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तान चयन समिति के पास कोई विजन ही नहीं है। चयन समिति की अदूरदर्शिता के कारण ही पाकिस्तान अच्छी टीम नहीं तैयार कर पा रहा है।

source

No comments:

Post a Comment