वामपंथियों के साथ शशि थरूर ने जिसे ‘हिन्दू फासिस्ट’ दिया था करार, निकला उन्हीं का प्रशंसक - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, January 9, 2021

वामपंथियों के साथ शशि थरूर ने जिसे ‘हिन्दू फासिस्ट’ दिया था करार, निकला उन्हीं का प्रशंसक


हाल ही में अमेरिका थर्रा उठा, जब वाशिंगटन डीसी के Capitol Hill में स्थित अमेरिकी प्रशासन के विभिन्न कार्यालयों पर ट्रम्प समर्थकों ने धावा बोला। इस पर कई लोगों ने मिश्रित प्रतिक्रिया दी, पर सभी ने एक सुर में विरोध के नाम पर हुए उपद्रव की निन्दा की। लेकिन वामपंथी भला अपनी आदत  से कहाँ बाज आते, और यहाँ भी उन्होंने अपनी विकृत मानसिकता दिखाने का प्रयास किया, जो अन्त में उन्ही पर भारी पड़ गया। इस पूरे प्रकरण में यदि सबसे लज्जित कोई हुआ तो वह शशि थरूर थे।

दरअसल, Capitol Hill के समक्ष हुए उग्र प्रदर्शनों में एक व्यक्ति ने भारतीय झण्डा भी लहराया। फिर क्या था, वामपंथियों को मानो भारतीयता और सनातन संस्कृति को नीचा दिखाने का एक सुनहरा मौका मिल गया और सभी ने जमकर भारतीयता और हिन्दुत्व को जमकर भारत में कोसा।

इसकी शुरुआत स्वघोषित फैक्ट चेकर मोहम्मद ज़ुबैर ने की, जब जनाब ने इस पर ट्वीट किया, “ये रहा डोनाल्ड ट्रम्प के लिए भक्तों का समर्थन”

फिर क्या था, रैली में तिरंगे के पीछे भारतीयता और सनातन संस्कृति को नीचा दिखाने की तो मानो होड़ सी मच गई। सागरिका घोष ने तो कुछ पुराने तस्वीरों को Capitol Hill की तस्वीर बताते हुए तंज भरा ट्वीट किया, “देखो तो कैसे मुस्कुरा रहे हैं” –

लेकिन हिंदुओं को अपमानित करने में शायद सबसे अधिक रुचि शशि थरूर को थी। जब वरुण गांधी ने उपद्रवियों की रैली में भारतीय झंडे के उपयोग पर सवाल उठाया, तो शशि थरूर ने तंज भरे ट्वीट में लिखा, “वरुण गांधी, दुर्भाग्यवश हमारे देश में कुछ ऐसे लोग हैं, जो ट्रम्प प्रायोजित इस भीड़ की तरह ही एक घिनौनी सोच को समर्थन देते हैं, जिनके लिए झण्डा एक गर्व की वस्तु नहीं है, एक शस्त्र है, और जो भी उनकी बात नहीं मानता वो सब देशद्रोही और गद्दार हैं। वो झण्डा हम सबके लिए चेतावनी है” –

वीडियो प्लेयर
00:00
00:12

 

लेकिन अपने अतिउत्साह में शशि थरूर शायद यह भूल गए कि सोशल मीडिया पर कोई भी झूठ ज्यादा देर नहीं चल पाता। हुआ भी यही, क्योंकि कुछ ही घंटों में तिरंगा लहराने वाले की पहचान जगजाहिर हो गई। वह एक भारतीय मूल का ईसाई विन्सेंट ज़ेवियर था, जो खुद को ट्रम्प का कट्टर समर्थक बताता है। परंतु बात वहीं पर खत्म नहीं होती। ये विन्सेंट ज़ेवियर ट्रम्प समर्थक होने के साथ-साथ शशि थरूर का भी कट्टर समर्थक रहा है –

अब इस खुलासे पर राष्ट्रवादियों और दक्षिणपंथियों ने जमकर वामपंथियों की खिंचाई करनी शुरू कर दी है। वरुण गांधी ने स्वयं तंज कसते हुए ट्वीट किया, “प्रिय शशि थरूर, अब जब ये स्पष्ट है कि ये सरफिरा आपका इतना प्रिय मित्र था, तो हम यही आशा करते हैं कि इस पूरे प्रकरण में कहीं आपका हाथ न सामने आ जाए” –

इसपर शशि थरूर भड़क गए और जनाब ने बौखलाहट में लिखा, “ऐसा नहीं है। मैं इसकी घोर निन्दा करता हूँ। क्या आप अपने शुभचिंतकों की हर बुरी हरकत के लिए दोषी ठहराए जाना पसंद करेंगे। अपने तिरंगे का किसी गलत जगह इस्तेमाल होना मैं पाप समझता हूँ” –

मतलब एक तो झूठी अफवाह फैलाओ, और पकड़े जाने पर हेकड़ी भी दिखाओ। शायद ऐसे ही लोगों के लिए मोदी जी ने क्या खूब कहा है-


मतलब एक तो झूठी अफवाह फैलाओ, और पकड़े जाने पर हेकड़ी भी दिखाओ। शायद ऐसे ही लोगों के लिए मोदी जी ने क्या खूब कहा है-

No comments:

Post a Comment