भारत ने चीन को वैक्सीन वार में हरा दिया है, अब चीन भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा फैला रहा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Tuesday, January 26, 2021

भारत ने चीन को वैक्सीन वार में हरा दिया है, अब चीन भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा फैला रहा


कोरोना महामारी से तबाह विश्व को अपने वैक्सीन से राहत देने के बाद भारत का कद कई गुना ऊँचा हो चुका है। स्पष्ट तौर पर देखा जाये तो वैक्सीन की असली रेस भारत और चीन के बीच थी जिसमें भारत ने चीन को बुरी तरह पीट दिया है। लेकिन वैक्सीन डिप्लोमेसी में हार के बाद, अब चीन अपने मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स के माध्यम से प्रोपोगेन्डा फैसला कर भारत के वैक्सीन प्रोग्राम को पटरी से उतारने की कोशिश कर रहा है।

भारत की वैक्सीन डिप्लोमेसी चीन की तुलना में अधिक मजबूत और सफल रही है। कंबोडिया, ब्राजील, भूटान, दक्षिण अफ्रीका और दुनिया भर के कई अन्य देशों ने भारतीय वैक्सीन का अनुरोध किया है। जबकि चीन की वैक्सीन ड्राइव अपनी अक्षमता के कारण फ्लॉप हो गई है। विश्व भर में भारतीय वैक्सीन को विश्वसनीय और सुरक्षित माना जा रहा है, यहां तक ​​कि Pfizer और  Moderna वैक्सीन भी असुरक्षित माने जा रहे हैं। इसी कारण अब चीन ने भारत के वैक्सीन प्रोग्राम के खिलाफ प्रोपोगेन्डा शुरू किया है।

चीनी सरकार के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स ने भारत की ‘वैक्सीन मैत्री’ पहल के खिलाफ प्रचार अभियान शुरू किया। दरअसल सीरम इंस्टीट्यूट में आग लगने की घटना के बाद वैक्सीन के निर्माण की भारत की क्षमता पर सवाल उठाते हुए यह भी दावा किया है कि भारतीय “चीनी वैक्सीन” लगावा रहे हैं। ग्लोबल टाइम्स के इस लेख का शीर्षक दिया गया: “आग लगने के बाद उच्च गुणवत्ता वाले टीकों का उत्पादन करने की भारत की क्षमता, पर सवाल उठाए गए हैं।”

इसके बाद इस लेख लिखा गया है कि भारत की फैक्ट्रियों में बिजली से आग लगने की आशंका बनी रहती हैं।

बता दें कि SII के सीईओ अदार पूनावाला ने ट्वीट किया था और आश्वासन दिया था कि आग के कारण वैक्सीन के उत्पादन प्रभावित नहीं होगा। उन्होंने कहा, “वैक्सीन उत्पादन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा क्योंकि कंपनी के पास ऐसी आकस्मिकताओं से निपटने के लिए “रिजर्व में रखी गई अन्य सुविधाएं हैं।”

ग्लोबल टाइम्स ने बीबीसी की एक रिपोर्ट के हवाले से दावा किया है कि ऑल इंडिया ड्रग एक्शन नेटवर्क ने कहा कि SII-उत्पादित कॉविशिल्ड की मंजूरी को रोक दिया गया क्योंकि निर्माता ने वैक्सीन के लिए “ब्रिजिंग अध्ययन” पूरा नहीं किया था। इसने दावा किया कि, “कंपनी ने कहा है कि वह फरवरी में भारत में वैक्सीन के ब्रिजिंग परीक्षण का संचालन करने की कोशिश करेगी”।

भारत ने शनिवार को एक सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया है, जिसमें पाकिस्तान को छोड़कर अपने पड़ोसियों को 1 करोड़ वैक्सीन देने की प्रतिबद्धता शामिल है। वहीँ दूसरी ओर, चीन के वैक्सीन पर कोई भरोसा भी नहीं करना चाहता है।

यहां तक ​​कि चीन के करीबी सहयोगी कंबोडिया ने भी हाल ही में चीनी वैक्सीन की एक लाख खुराक प्राप्त करने के बावजूद वैक्सीन के लिए भारत से अनुरोध किया था।

लेख में एक विशेषज्ञ के हवाले से यह भी कहा गया है कि भारत के वैक्सीन को मुख्य रूप से दक्षिण एशियाई देशों को सहायता के रूप में दिया जा रहा था और कई देश वास्तव में “गुणवत्ता की चिंताओं” के कारण भारतीय टीके नहीं खरीद रहे थे। हालांकि, भारत सऊदी अरब, दक्षिण अफ्रीका, ब्राजील, मोरक्को, बांग्लादेश और म्यांमार को भी वाणिज्यिक आधार पर टीके की आपूर्ति कर रहा है।

एक अन्य लेख में, ग्लोबल टाइम्स ने भारतीय रेस्तरां श्रमिकों के हवाले से कहा कि वे चीनी टीकों द्वारा टीका लगाए जाने के लिए तैयार थे क्योंकि उन्हें इन टीकों की गुणवत्ता के बारे में कोई संदेह नहीं था। इसने भारतीय मीडिया रिपोर्टों पर भी प्रकाश डाला जिसमें कहा गया था कि भारत में स्वास्थ्य कार्यकर्ता भारतीय वैक्सीन कोवाक्सिन को स्वीकार करने से हिचक रहे थे।

जबकि सच्चाई यह है कि चीनी टीकों की गुणवत्ता ही संदेह के घेरे में है। स्थानीय उपयोग के लिए स्वीकृत एक चीनी वैक्सीन की विश्व स्वास्थ्य संगठन के साथ केवल 79.3 प्रतिशत प्रभावकारिता थी। वहीँ भारत से 47 टीकों की तुलना में निर्यात के लिए केवल पांच चीनी टीके ही थे।

हालांकि, चीन ने हार मान ली है, लेकिन यह इस तथ्य को पचाने में असमर्थ रहा कि भारत ने दक्षिण एशिया में चीन को पीछे छोड़ दिया है। आज के वैश्विक समय में चीन इस तरह से पिछड़ना स्वीकार नहीं कर पा रहा है और प्रोपोगेन्डा फैला रहा है।

source

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment