इंडिया टुडे ने राजदीप सरदेसाई के खिलाफ चलाया चाबुक, ट्रैक्टर परेड में अफवाह फैलाने का आरोप! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Friday, January 29, 2021

इंडिया टुडे ने राजदीप सरदेसाई के खिलाफ चलाया चाबुक, ट्रैक्टर परेड में अफवाह फैलाने का आरोप!

 

इंडिया टुडे ने राजदीप सरदेसाई के खिलाफ चलाया चाबुक, ट्रैक्टर परेड में अफवाह फैलाने का आरोप!

26 जनवरी को हुए किसानों के ट्रैक्टर परेड में हिंसा को लेकर चर्चित टीवी पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने एक ट्वीट किया था, इस ट्वीट की वजह से राजदीप को दो हफ्ते के लिये ऑफ एयर किया गया है, साथ ही उनकी एक महीने की सैलरी भी काट ली गई है, ऑफ एयर किये जाने पर राजदीप की पत्नी सागरिका घोष ने ट्वीट करते हुए लिखा, कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे और 24 वर्षीय मृतक किसान को ही भूला दिया है।

किसान की मौत
दरअसल 26 जनवरी को आंदोलनकारी किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाला था, जिस दौरान दिल्ली में हिंसा भी हुई थी, दिल्ली पुलिस ने दावा किया था कि इस हिंसा में उनके करीब 300 जवान जख्मी हो गये, प्रदर्शन के दौरान एक किसान की मौत भी हो गयी थी, हालांकि तब ये साफ नहीं हो पाया था कि आखिर किन वजहों से किसान की मौत हुई है। वरिष्ठ पत्रकार राजदीप ने ट्वीट कर लिखा था कि किसान नवनीत सिंह की मौत आईटीओ के पास पुलिस फायरिंग में हुई है, जिसके बाद इस ट्वीट के कारण इंडिया टुडे समूह ने उन्हें दो हफ्तों के लिये ऑफ एयर कर दिया है, साथ ही एक महीने की सैलरी भी काट ली है।

पत्नी ने किया बचाव
राजदीप सरदेसाई को ऑफ एयर किये जाने पर उनकी पत्नी सागारिका घोष ने बचाव करते हुए ट्वीट किया है, कि हमने इन सब आपाधापी में असली मुद्दे को ही खो दिया है, सागारिका ने ट्वीट कर लिखा है, तेजी से बदलती कहानियों में हर समय कुछ ना कुछ परिवर्तन होता रहता है, साथ ही सागारिका ने ये भी लिखा, कि उस स्टोरी को मिनटों में ही ठीक कर दिया गया था, लेकिन चिंता की बात ये है कि हमने इन सबके दौरान वास्तविक मुद्दों को ही खो दिया और 24 वर्षीय किसान की मौत को भी पीछे छोड़ दिया।

ये पत्रकारिता नहीं लापरवाही है
हालांकि सागारिका के इस ट्वीट पर कई यूजर जमकर रिएक्ट कर रहे हैं, एक यूजर ने जवाब देते हुए लिखा, वो कैमरे पर लोगों के बीच जाकर कहते हैं कि उन्होने किसान के माथे पर लगी पुलिस की गोली देखी है, ये पत्रकारिता नहीं है, साथ ही ये एक तरह की लापरवाही है, वहीं मौलिक शाह नाम के एक यूजर ने सागारिका को जवाब देते हुए लिखा, कि हमें कहानी मत बताइये, हम सच की उम्मीद करते हैं, जिनकेलिये राजदीप को पैसे भी मिलते हैं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment