यूं साधना गुप्ता के करीब आते चले गये मुलायम सिंह यादव, जानिये कौन है अखिलेश की सौतेली मां? - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, January 25, 2021

यूं साधना गुप्ता के करीब आते चले गये मुलायम सिंह यादव, जानिये कौन है अखिलेश की सौतेली मां?

 

यूं साधना गुप्ता के करीब आते चले गये मुलायम सिंह यादव, जानिये कौन है अखिलेश की सौतेली मां?

यूपी के पूर्व सीएम तथा समाजवी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव ने दो शादी की है, उनकी पहली पत्नी का नाम मालती देवी था, अखिलेश मालती देवी के ही बेटे हैं, नेताजी की दूसरी पत्नी का नाम साधना गुप्ता है, आइये आज हम आपको अखिलेश यादव की सौतेली मां साधना गुप्ता के बारे में बताते हैं, कि आखिर वो कैसे मुलायम सिंह यादव के करीब पहुंची।

साधना गुप्ता की भी दो शादी
साधना गुप्ता मूल रुप से इटावा के बिधुना तहसील की रहने वाली हैं, साल 1986 में उनकी शादी फर्रुखाबाद के चंद्रप्रकाश गुप्ता से हुई थी, शादी के बाद साधना ने बेटे प्रतीक को जन्म दिया था, बेटे के जन्म के दो साल बाद साधना और चंद्रप्रकाश अलग हो गये, इसके बाद साधना गुप्ता सपा के तत्कालीन सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव के संपर्क में आई, दरअसल साधना गुप्ता भी समाजवादी पार्टी की कार्यकर्ता थीं।

रिश्ते का जिक्र
अखिलेश की बायोग्राफी बदलाव की लहर में मुलायम सिंह यादव और साधना के रिश्ते का भी जिक्र है, इस किताब में कहा गया है कि मुलायम की मां मूर्ति देवी अकसर बीमार रहती थी, तब साधना गुप्ता ही उनकी देखभाल करती थी, किताब के मुताबिक एक बार इलाज के दौरान एक नर्स मूर्ति देवी को गलत इंजेक्शन लगाने जा रही थी, तभी वहां मौजूद साधना ने नर्स को रोक दिया, मुलायम को जब ये

दूसरी शादी
साल 2003 में पहली पत्नी मालती देवी के निधन के बाद ही मुलायम सिंह यादव ने सार्वजनिक तौर पर साधना गुप्ता को अपनी पत्नी का दर्जा दिया, mulayam singh yadav1मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साधना के कारण अखिलेश पिता से काफी नाराज हुए थे,  फिलहाल साधना राजनीति में नहीं हैं, उनके बेटे प्रतीक यादव भी राजनीति से दूर ही हैं, लेकिन उनकी पत्नी अपर्णा यादव विधानसभा चुनाव लड़ चुकी हैं, अखिलेश यादव के उनकी सौतेली मां और भाई से कुछ खास अच्छे संबंध नहीं हैं, सार्वजनिक तौर पर सपा प्रमुख शायद ही कभी अपने पिता के दूसरे परिवार के साथ नजर आये हों।

No comments:

Post a Comment