दो सौ साल पुराने ताबूत के साथ मिला जूस, लोगों ने जताई पीने की इच्छा, जानें क्या है खासियत - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Friday, January 29, 2021

दो सौ साल पुराने ताबूत के साथ मिला जूस, लोगों ने जताई पीने की इच्छा, जानें क्या है खासियत

 

taboot

मिस्र। दुनिया में अक्सर कुछ न कुछ विचित्र होता रहता है जिस पर भरोसा करना आसान नहीं होता लेकिन वह सच होता है। कुछ ऐसे ही पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) के साथ भी अक्सर होता रहता है। पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) की खुदाई में कई बार कुछ विचित्र चीजें मिल जाती है, जिस पर भरोसा करना लगभग नामुमकिन सा होता है। ऐसा ही एक वाकया मिस्र के अलेक्जेंड्रिया में देखने को मिला जहां पुरातत्व विभाग को दो सौ साल पुराना एक ताबूत मिला है, जिसमें एक खास तरह का जूस मिला है। इस जूस की खासियत यह है कि इसने इतने पुराने कंकाल की बदबू तक खत्म कर दी।

दरअसल मिस्र के अलेक्जेंड्रिया में पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) को खुदाई के दौरान करीब दो सौ साल पुराना के ताबूत मिला था। ताबूत में तीन कंकाल होने के साथ ही एक खास तरह का जूस भी निकला है। जैसे ही यह खबर लोगों के बीच फैली लोगों ने इसे पीने की इच्छा जाहिर की है। मिस्र के एक समाचार पत्र आउटलेट एल-वतन में छपी खबर के मुताबिक पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) को खुदाई के दौरान एक ताबूत मिला था जिसमें तीन कंकाल थे। इसके साथ ही एक भूरे रंग का पानी मिला था, जिसने कंकाल की बदबू को खत्म कर दिया।

सैन्य इंजीनियरों कि मदद से खोला गया ताबूत 

इस बारे में पुरातत्व के अधिकारियों का कहना है कि शुरू में ताबूत के ढक्कन क सिर्फ पांच सेमी यानी की दो इंच तक उठाया गया, तभी उसमें से तीखी गंध आने लग , लेकिन मिस्र के सैन्य इंजीनियरों (Military engineers) की मदद से इसे खोला गया। इस बारे में बीबीसी के सुप्रीम काउंसिल ऑफ एंटिक्स (Supreme council of antics) के महासचिव मोस्तफा वज़िरी ने कहा था, “हमें ताबूत में तीन लोगों की हड्डियां मिलीं। इन्हें पारिवारिक तरीके से दफनाया गया था। दुर्भाग्य से अंदर की ममी ठीक नहीं थी और केवल हड्डियां बची थीं।” वज़िरी ने कहा था, “हमने इसे खोल दिया है। शुक्र है कि यहां मैं आपके सामने खड़ा हूं। मैं ठीक हूं।”

मामियां खतरनाक नहीं होती 

बता दें कि मिस्र में एक अफवाह फैली है कि मामियां खतरनाक होती हैं। इनसे निकलने वाले जहरीले धुएं से लोगों की मौत हो जाती है। यह अफवाह साल 1923 में तब फैलनी शुरू हुई थी जब तूतनखामुन के दफन स्थल की खुदाई के वित्तीय सहायक लॉर्ड कार्नरवोन की चैंबर खोलने के तुरंत बाद एक संक्रमित मच्छर के काटने से मृत्यु हो गई थी। हालांकि इस बारे में हवाई विश्वविद्यालय में महामारी विज्ञान के प्रोफेसर एफ डेवॉल्फ मिलर ने नेशनल जियोग्राफिक को बताया कि मामियों से कोई खतरा नहीं है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment