लड़की को 15 साल बाद पता चला कि, वो लड़का है, जांच रिपोर्ट देख डॉक्टर भी हुए हैरान - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Wednesday, January 27, 2021

लड़की को 15 साल बाद पता चला कि, वो लड़का है, जांच रिपोर्ट देख डॉक्टर भी हुए हैरान

 

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के सतारा जिले में जब एक लड़की (15) ने मासिक धर्म शुरू नहीं होने पर पुणे में एक डॉक्टर से जांच कराइ तो जो रिपोर्ट सामने आई उसे सुन लड़की के होश उड़ गए। मेडिकल जांच में सामने आया कि, उस लड़की के क्रोमोसोम मेल हैं। लड़की की जांच रिपोर्ट में डॉक्टर्स को रेयर कंडीशन मिली जिसे “एंड्रोजन इंसेनसिविटी सिंड्रोम” कहते हैं। इसके अनुसार एक व्यक्ति आनुवंशिक रूप से पैदा तो पुरुष (Male) होता है लेकिन उसमें शारीरिक लक्षण एक महिला (Female) के होते हैं।

लड़की की मेडिकल रिपोर्ट आने के बाद उसके माता और वो खुद ये चाहते हैं कि, अब बाकी की जिंदगी भी वो लड़की की आइडेंटिटी ही बनाए रखना चाहते हैं। लड़की की इस बीमारी को डायग्नोसिस करने वाले स्त्री रोग विशेषज्ञ और एंडोस्कोपिक सर्जन डॉ. मनीष मचावे का कहना है कि, लड़की को पार्टियल एआईएस डायग्नोस हुआ है, जिसमे एंड्रोजन एक मेल सेक्स हार्मोन है। ऐसे व्यक्ति के शरीर में पुरुष हार्मोन के प्रति असंवेदनशील हो जाता है।

ऐसे व्यक्ति में महिला और पुरुष दोनों के फीचर्स रहते हैं। इस ही वजह से उसके ब्रेस्ट और वजाइनल डवलपमेंट भी डेवलप भी सामान्य नहीं है। गर्भाशय और अंडाशय तो है ही नहीं। लड़की की मदद के लिए अस्पताल की टीम उसके साथ है और उसकी फीमेल आईडेंटिटी के साथ उसके रहने में मदद कर रही है। कुछ दिन पहले ही गोनैड्स को हटाने के लिए लड़की की लेप्रोस्कोपी सर्जरी और ब्रेस्ट की सर्जरी की गई।

डॉक्टर्स अब लड़की को हार्मोनल इंजेक्शन देने पर विचार कर रहे हैं, जिससे उसमे पुरुष के लक्षणों के विकास को रोका जा सके। डॉक्टरों की टीम का कहना है कि, 18 वर्ष की जब लड़की हो जाएगी तो उसका लेप्रोस्कोपिक वेजिनोप्लास्टी की जाएगी। इसके बाद वो महिला के रूप में जीवन तो जी सकेगी लेकिन वो कभी मां नहीं बन पायेगी।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment