ममता बनर्जी के लिये मुसीबत बनेगी ओवैसी-अब्बास की जोड़ी, 100 सीटों पर बिगाड़ेंगे खेल! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, January 4, 2021

ममता बनर्जी के लिये मुसीबत बनेगी ओवैसी-अब्बास की जोड़ी, 100 सीटों पर बिगाड़ेंगे खेल!

 

ममता बनर्जी के लिये मुसीबत बनेगी ओवैसी-अब्बास की जोड़ी, 100 सीटों पर बिगाड़ेंगे खेल!

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के लिये काउंटडाउन शुरु हो चुका है, इस चुनाव में जहां अभी तक बीजेपी तथा टीएमसी के बीत सीधी टक्कर मानी जा रही थी, वहीं रविवा को बंगाल में ओवैसी की एंट्री की घोषणा ने मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है, दरअसल ओवैसी अकेले नहीं बल्कि प्रभावशाली फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी के साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे हैं। अब्बास सिद्दीकी के चुनाव में सीधे उतरने से ममता बनर्जी के कोर वोट बैंक में सेंध लगना तय माना जा रहा है।

किंगमेकर की भूमिका में मुस्लिम वोटर्स
31 फीसदी वोट शेयर के साथ मुस्लिम बंगाल चुनाव में किंगमेकर की भूमिका में रहते हैं, 2011 में ममता बनर्जी की धमाकेदार जीत के पीछे भी यही वोटबैंक था, Muslimराज्य की 294 सीटों में से 90 से ज्यादा सीटों पर इस वोटबैंक का सीधा असर है, लेकिन फुरफुरा शरीफ दरगाह के चुनाव में उतरने से ममता के इस मजबूत वोट बैंक में सेंध लगने की पूरी संभावना है, और ऐसा हुआ तो ममता का तीसरी बार भी पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने का सपना अधूरा रह सकता है।

ममता को मिलता रहा है फायदा
एआईएमआईएम प्रमुख अस्सदुद्दीन ओवैसी ने रविवार को फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात की, owaisi mamta03उन्होने कहा कि अब्बास सिद्दीकी का हमें समर्थन हासिल है, और जो फैसला वो लेगें, वहीं हमें मंजूर होगा, बंगाल के हुगली जिले में फुरफुरा शरीफ विख्यात दरगाह है, दक्षिण बंगाल में इस दरगाह का विशेष दखल है, लेफ्ट फ्रंट सरकार के दौरान इसी दरगाह की मदद से ममता ने सिंगूर और नंदीग्राम जैसे दो बड़े आंदोलन किये थे।

ओवैसी ने समझी अहमियत
बिहार में कामयाबी से गदगद ओवैसी के लिये बंगाल एक बड़ा अवसर है, बंगाल चुनाव के लिये ओवैसी किस हद तक सधी हुई रणनीति अपना रहे हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि रविवार को उन्होने अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत फुरफुरा शरीफ दरगाह से की, यहां उन्होने पीरजादा अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात की, 38 वर्षीय सिद्दीकी एक समय ममता बनर्जी के मुखर समर्थक थे, लेकिन बीते कुछ दिनों से उन्होने सीएम के खिलाफ मोर्चा खोल रका है, सिद्दीकी ने ममता सरकार पर मुस्लिमों की अनदेखी करने का आरोप लगाया है, बंगाल में करीब 100 सीटों पर फुरफुरा शरीफ दरगाह का प्रभाव है, ऐसे में ये चुनाव दिलचस्प हो चला है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment