कृषि कानून पर राहुल गांधी के ट्वीट पर आया नवजोत सिद्धू का रिएक्शन, कहा – इसे लेकर कोई … - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, December 5, 2020

कृषि कानून पर राहुल गांधी के ट्वीट पर आया नवजोत सिद्धू का रिएक्शन, कहा – इसे लेकर कोई …

 

कृषि कानून पर राहुल गांधी के ट्वीट पर आया नवजोत सिद्धू का रिएक्शन, कहा – इसे लेकर कोई …

कृषि कानून को लेकर देश में किसानों का हल्‍ला मचा हुआ है । किसान संगठन और केंद्र सरकार के बीच दिल्ली के विज्ञान भवन में बातचीत का सिलसिला लगातार जारी है तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस के नेता ट्विटर पर सरकार के विरोध में मोर्चा खोले हुए हैं । कांग्रेस लगातार ये संदेश दे रही है कि इस कानून को वापस लिए जाने के आलावा किसी प्रकार का समझौता नहीं होना चाहिए ।

नवजोत सिंह सिद्धू का ट्वीट
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस मामले में ट्वीट किया था । जिसे रीट्वीट करते हुए पंजाब कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा है कि इस बात पर कोई समझौता नहीं होना चाहिए । आपको बता दें राहुल गांधी ने अपने ट्वीट में लिखा है – “काले कृषि कानूनों को पूर्ण रूप से रद्द करने से कम कुछ भी स्वीकार करना भारत और उसके किसानों के साथ विश्वासघात होगा।” सिद्धू ने राहुल गांधी के इसी ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा, ‘इसे लेकर कोई समझौता नहीं।’

जारी है आंदोलन
आपको बता दें कि किसानों का आंदोलन एक हफ्ते से ज्‍यादा समय से जारी है । दिल्ली के अलग- अलग बॉर्डर पर किसान जमे हुए है । दिल्ली यूपी बॉर्डर पर तो अब हालात काबू से बाहर हो रहे हैं, यहां किसानों की संख्या लगातार बढ़ा रही है । पहले जहां दिल्ली-हरियाणा के टिकरी और सिंघू बॉर्डर पर ही किसान बड़ी संख्या में जुटे थे वहीं अब यूपी के गाजियाबाद बॉर्डर पर भी बड़ी संख्या में किसान धरने पर है ।

रद्द कराने की मांग पर अड़े हैं किसान
देश के किसान इस कानून को रद्द करने की मांग पर अड़ी है, हालांकि सर संशोधन के लिए किसानों को मनाना चाहती है । किसानों की ओर से तर्क है कि किसी किसान या किसान संगठन ने कभी ऐसे कानूनों की मांग नहीं की थी । किसान और कृषि संगठनों की ओर से हमेशा एमएसपी और उसका सी2 के आधार पर निर्धारण, कर्ज मुक्त किसान और 100% फसल खरीद की रही है । विशेषज्ञों का भी कहना है कि यह कानून किसानों के ऊपर थोपा जा रहा है । कहा जा रहा है कि, सरकार बाजार आधारित कृषि के लिए काम कर रही है न कि देश के 14 करोड़ किसान परिवारों के लिए ।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment