कर्नाटक विधान परिषद के उप-सभापति की मौत मामले की जांच होगी, कांग्रेस की बढ़ सकती हैं मुश्किलें - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Thursday, December 31, 2020

कर्नाटक विधान परिषद के उप-सभापति की मौत मामले की जांच होगी, कांग्रेस की बढ़ सकती हैं मुश्किलें

 


कर्नाटक विधानपरिषद के उपसभापति एसएल धर्मेंगौड़ा ने हाल ही आत्महत्या की है जिसकी वजह कांग्रेस के एमएलसियों द्वारा विधानपरिषद में उनसे की गई बदसलूकी मानी जा रही है। जेडीएस के एमएलसी ने तो आत्महत्या के पीछे की वजह विधानपरिषद की घटना को ही बता दिया था, लेकिन अब धर्मेंगौड़ा के भाई ने भी उनके अपमान को ही उनकी उदास होने की वजह माना है जिसके कारण उन्होंने सुसाइड किया होगा। वहीं इस मामले में लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने जांच के आदेश दिए हैं, जो कि कांग्रेस को एक बड़ा झटका देने वाला होगा, क्योंकि इस बदसलूकी की असली वजह कांग्रेसियों को ही बताया जा रहा है।

नवभारत टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक धर्मेंगौड़ा ने चिकमंगलूर के पास रेलवे ट्रैक पर अपनी जान दी थी। वहीं उनके पास से मिले सुसाइड नोट में भी विधानपरिषद की उस घटना का जिक्र हुआ था जिसमें उनका घोर अपमान किया गया था। वहीं उनके भाई और एमएलसी एसएल भोजेगौड़ा ने कहा, “मेरे भाई 15 दिसंबर की विधान परिषद की उस घटना से बेहद आहत थेमुझे नहीं पता था कि वो अपनी आत्मग्लानि में इस तरह का कोई बड़ा कदम उठा लेंगे।” कर्नाटक के गृहमंत्री बासवराज बोम्मई ने भी सुसाइड नोट के आधार पर इसे अपमान के कारण की हुई आत्महत्या बताया है।

इन सबसे इतर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला भी धर्मेंगौड़ा के निधन से शोकाकुल हैं। उन्होंने इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा, डिप्टी स्पीकर एस.एल. धर्मेगौड़ा के निधन की दुखद खबर से व्यथित हूं। पीठासीन अधिकारी के रूप में उनके साथ सदन में हुआ घटनाक्रम दुर्भाग्यपूर्ण था। घटनाक्रम लोकतंत्र की गरिमा पर कठोर आघात था। धर्मेगौड़ा की मृत्यु की उच्च स्तरीय-निष्पक्ष जांच आवश्यक है।” लोकसभा स्पीकर का ये बयान धर्मेंगौड़ा का अपमान करने वालों के लिए एक बहुत ही सख्त संदेश है।

इन सबसे इतर लोकसभा स्पीकर ओम बिरला भी धर्मेंगौड़ा के निधन से शोकाकुल हैं। उन्होंने इस पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा, डिप्टी स्पीकर एस.एल. धर्मेगौड़ा के निधन की दुखद खबर से व्यथित हूं। पीठासीन अधिकारी के रूप में उनके साथ सदन में हुआ घटनाक्रम दुर्भाग्यपूर्ण था। घटनाक्रम लोकतंत्र की गरिमा पर कठोर आघात था। धर्मेगौड़ा की मृत्यु की उच्च स्तरीय-निष्पक्ष जांच आवश्यक है।” लोकसभा स्पीकर का ये बयान धर्मेंगौड़ा का अपमान करने वालों के लिए एक बहुत ही सख्त संदेश है।

source

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment