कुंबले और भज्जी ने कप्तान की बात मानने से कर दिया था इंकार, सचिन को देना पड़ा था दखल, वीरु की जुबानी! - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Monday, December 21, 2020

कुंबले और भज्जी ने कप्तान की बात मानने से कर दिया था इंकार, सचिन को देना पड़ा था दखल, वीरु की जुबानी!

 

कुंबले और भज्जी ने कप्तान की बात मानने से कर दिया था इंकार, सचिन को देना पड़ा था दखल, वीरु की जुबानी!

टीम इंडिया का कप्तान बनना आसान नहीं है, अगर कप्तान बन भी गये, तो सही में टीम चलाना बेहद कठिन है, टीम इंडिया के पूर्व सलामी बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग को 4 टेस्ट मैचों में कप्तानी करने का मौका मिला था, इसमें उन्होने दो टेस्ट जीते, एक हारे तथा एक ड्रा रहा। वीरु ने इंटरव्यू के दौरान कप्तानी की मुश्किलों पर चर्चा करते हुए एक रोमांचक किस्सा शेयर किया, उन्होने बताया कि कैसे कुंबले और हरभजन सिंह मैदान पर उनकी बात नहीं मान रहे थे।

क्या है किस्सा
दरअसल वीरेन्द्र सहवाग और कुंबले का ये इंटरव्यू वीयू इंडिया नाम के यू-ट्यूब चैनल पर है, जिसमें वीरु ने एक सवाल के जवाब में कहा था, अनिल भाई मेरी कप्तानी में खेले हैं, जरा सोचिये, कि एक तरफ से अनिल कुंबले गेंदबाजी कर रहे हैं और दूसरी ओर से हरभजन सिंह, अहमदाबाद में श्रीलंका के खिलाफ मैच चल रहा था, दोनों ही गेंदबाजी से हटने को तैयार नहीं, तगड़ा कंपटीशन था, अनिल भाई बोल रहे थे, उसको बोल हट जाएगा, फिर भज्जी ने कहा कि अनिल भाई को बोल, वो ब्रेक ले लें, दोनों के बीच में मैं कप्तान फंस गया।

दोनों ब्रेक के लिये तैयार नहीं
सहवाग ने आगे बताया दोनों ब्रेक लेने के लिये तैयार नहीं थे, लगातार 10-10 ओवर डाल चुके थे, फिर मैं सचिन तेंदुलकर के पास गया, उनसे कहा कि दोनों मेरी बात नहीं सुन रहे थे, आप किसी को बोलिये कि ब्रेक ले, और हम एक छोर से तेज गेंदबाज को लगाए, सचिन फिर हरभजन के पास गये, वो हमारी टीम के वाकई भगवान थे, जो वो बोलते थे, सभी खिलाड़ी सुनते थे, अनिल भाई को मैं क्या बोल सकता था कि आप रुक जाओ, जब सौरव गांगुली की हिम्मत नहीं हुई, तो मैं कौन था।

टीम इंडिया को मिली थी जीत
वीरु ने जिस टेस्ट मैच की कहानी सुनाई, उसमें टीम इंडिया ने पहली पारी में 398 रन बनाये थे, वीवीएस लक्ष्मण ने 104 रन बनाये थे, इरफान पठान ने 82, धोनी ने 49 रनों की पारी खेली थी, श्रीलंकाई टीम पहली पारी में 206 रन ही बना सकी थी, तिलकरत्ने दिलशान ने 65 रन बनाये थे, भज्जी ने 7 विकेट हासिल किये थे, इसके बाद टीम इंडिया ने दूसरी पारी में 9 विकेट पर 316 रन बनाये थे, युवराज सिंह ने 75, अजित अगरकर ने 48 तथा हरभजन ने 40 रन बनाये थे, 509 रन के लक्ष्य के सामने लंकाई टीम 249 रनों पर सिमट गई थी, दिलशान ने 65 तथा महेला जयवर्धने ने 57 रनों की पारी खेली थी। कुंबले ने 5 तथा भज्जी ने तीन विकेट झटके थे। टीम इंडिया ये मुकाबला 259 रनों से जीती थी।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment