गलवान घाटी में चीन ने ही रचा था नापाक षड्यंत्र, अमेरिकी रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Thursday, December 3, 2020

गलवान घाटी में चीन ने ही रचा था नापाक षड्यंत्र, अमेरिकी रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा

 

गलवान घाटी में चीन ने ही रचा था नापाक षड्यंत्र, अमेरिकी रिपोर्ट में चौंकाने वाला खुलासा

इसी साल जून महीने में ने रात के अंधेरे में चीनी सैनिकों ने भारतीय सैनिकों पर कायराना हमला किया था, इस हमले में भारत ने अपने 20 सैनिक गंवा दिए । इस हमले को लेकर चीन अब तक पूरी दुनिया में बयानबाजी करता रहा है लेकिन अब इस हमले के बारे में एक अमेरिकी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि चीन सरकार ने गलवान घाटी में हुई खूनी हिंसा की साजिश रची थी ।

चीन ने रचा था षड्यंत्र
यूनाइटेड स्टेट्स चीन इकोनॉमिक एंड सिक्योरिटी रिव्यू कमीशन की ओर Galwan1से बुधवार को जारी एक रिपोर्ट में स्‍पष्‍ट रूप से ये दावा किया गया है कि गलवान झड़प एक साजिश थी और इसमें जानलेवा हमले की आशंका भी थी, इस बात के सबूत सामने आए हैं । सैटेलाइट की तस्वीरों से ये बात पता चलती है कि झड़प से एक हफ्ते पहले ही चीन ने इलाके में 1000 सैनिकों को तैनात कर दिया था ।

चीन का जोर-जबरदस्‍ती अभियान
इस रिपोर्ट के मुताबिक, गलवान में हमले का मकसद चीन Ladakh india china 4का अपने पड़ोसी देशों के खिलाफ ‘जोर-जबरदस्‍ती’ अभियान को तेज करना था । इस रिपोर्ट में ये भी बताया गया है कि बीजिंग ने अपने पड़ोसियों के खिलाफ एक मल्टीलेयर कैम्पेन भी तेज कर दिया है, जिसकी वजह से जापान, भारत और साउथ ईस्ट एशिया के देशों के साथ उसका तनाव बढ़ा है ।

चीन ने छुपाई शहीदों की संख्‍या
आपको बता दें, जून 2020 में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी और भारतीय सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हो गई थी । इसमें भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे, जबकि चीन की ओर से घायलों या मरने वाले सैनिकों की संख्या नहीं बताई गई थी । भारत और चीन के बीच 1975 के बाद यह पहला ऐसा मौका था जब दोनों पक्षों के बीच झड़प में सैनिकों की जान गई हो । इस घटना के बाद से दोनों देशों के बीच गहरे तनाव के हालात पैदा हो गए हैं ।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment