शिवसेना नेता ने की अज़ान से महाआरती की तुलना, बीजेपी बोली ऐसा परिवर्तन हैरान करने वाला - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Tuesday, December 1, 2020

शिवसेना नेता ने की अज़ान से महाआरती की तुलना, बीजेपी बोली ऐसा परिवर्तन हैरान करने वाला

शिवसेना नेता ने की अज़ान से महाआरती की तुलना, बीजेपी बोली ऐसा परिवर्तन हैरान करने वाला

 महाराष्ट्र में धार्मिक मुद्दे को लेकर फिर से राजनीति तेज है । दरअसल मामला शिवसेना के एक नेता की ओर से दिए बयान के बाद चर्चा में है । य‍हां अज़ान को लेकर सत्तारूढ़ महाविकास अघाड़ी और विपक्ष भारतीय जनता पार्टी के बीच तीखी तकरार हो गई । जुबानी जंग तब जारी हुई जब शिवसेना नेता पांडुरंग सकपाल ने अज़ान की तुलना महा-आरती से कर दी ।

शिवसेना नेता का बयान
शिवसेना नेता पांडुरंग सपकाल ने कहा कि अजान सिर्फ 5 मिनट की होती है और यह महा-आरती जैसी ही महत्वपूर्ण है, ये शांति और प्रेम का प्रतीक है ।  शिवसेना की सहयोगी दलों ने भी इस बयान का समर्थन किया । जबकि, बीजेपी को ये बात अखर गई है । बीजेपी नेता अतुल भतकलकर ने इस बयान पर हैरानी जताते हुए कहा कि बालासाहब ठाकरे की जिस पार्टी को सड़क पर नमाज पढ़े जाने पर ऐतराज था, उसे अज़ान से ऐसा प्रेम कैसे हो गया ।

शिवसेना नेता सपकाल का सुझाव
मीडिया से बातचीत के दौरान सपकाल ने अज़ान की खासियत का बखान करते हुए भगवद् गीता पाठ प्रतिस्पर्धा की तर्ज पर अज़ान कॉम्पिटिशन कराने की बात कही है । उन्होंने कहा-  ‘मैंने मुस्लिम बच्चों को प्रोत्साहित करने के लिए मुंबई के एक एनजीओ-माई फाउंडेशन- को अज़ान कॉम्पिटिशन कराने पर विचार करने का सुझाव दिया है।’ उन्होंने आगे कहा-  ‘मैं मरीन लाइन पर बड़ा कब्रिस्तान के पास रहता हूं.. रोज अजान सुनता हूं.. यह बड़ा ही अद्भुत और मनमोहक होता है । जो भी एकबार सुनता है, दूसरी बार के लिए उत्सुकता से इंतजार करता है। इसी से अजान प्रतिस्पर्धा का विचार आया।’

सुझाव का समर्थन
वहीं महाविकास अघाड़ी के सहयोगी दल एनसीपी और कांग्रेस ने पांडुरंग सपकाल के इस सुझाव का समर्थन किया है । एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने कहा कि भगवद् गीता के लिए तो ऐसी प्रतिस्पर्धा महाराष्ट्र में कई जगहों पर पहले से होती रही है । उसमें मुस्लिम लड़कियां भी पुरस्कार जीतती रही हैं । फिर अजान की प्रतिस्पर्धा में क्या गलत है? वहीं, कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सांवत ने भी कहा है कि जिनके दिलों में नफरत है, वे कभी भी इंसान और भगवान के बीच संवाद को समझ नहीं सकते । यह एक अच्छी पहल है तथा इसे प्रोत्साहित किया जाना चाहिए ।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment