किसान ने 11 एकड़ तैयार फसल पर चलाया ट्रैक्टर, वजह जानकर आप भी परेशान हो जाएंगे - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

Saturday, December 26, 2020

किसान ने 11 एकड़ तैयार फसल पर चलाया ट्रैक्टर, वजह जानकर आप भी परेशान हो जाएंगे

 

किसान ने 11 एकड़ तैयार फसल पर चलाया ट्रैक्टर, वजह जानकर आप भी परेशान हो जाएंगे

पंजाब के कपूरथला में एक किसान ने अपने खेतों में तैयार आलू की फसल को नष्ट कर दिया, किसान के मुताबिक ये आलू अब उसके किसी काम के नहीं । इसकी वजह जानकर आप भी हैरान रह जाएंगे । दरअसल पंजाब के दोआब खासकर कपूरथला और जालंधर इलाके में आलू की खेती बड़े पैमाने पर की जाती है, इन दिनों आलू की फसल तैयार होने वाली है । किसान भी इंतजार में हैं कि कब उनका आलू खेत से निकले और मंडी में बिके लेकिन उससे पहले ही आलू किसानों के लिए परेशान करने वाली खबर आ गई है ।

गिर गई हैं कीमतें
दरअसल आलू के बिकने का इंतजार कर रहे किसानों के लिए उनकी लागत निाकालनी तक भारी पड़ रही है लेकिन आलू बिकने का इंतजार कर रहे कपूरथला के किसान उदास हैं । वजह है आलुओं का दाम गिरना । इसी वजह से खेतों में खड़ी फसल पर ट्रैक्‍टर चलाने वाले किसान ने कहा कि उसे आलू की बेहद कम कीमत मिल रही थी, मजबूरन उसे अपने 11 एकड़ खेत में लगी फसल पर ट्रैक्टर चलाना पड़ा । किसान जसकिरत के मुताबिक मंडी में किसानों को आलू का उचित दाम नहीं मिल रहा है, इसी वजह से उसने निराश होकर अपनी 11 एकड़ आलू की फसल पर ट्रैक्टर चला दिया ।

लागत तक नहीं निकल पाती
आलू की खेती कर रहे किसानों के मुताबिक आलू की फसल पर प्रति एकड़ करीब 60 हजार रुपये का खर्च आता है, लेकिन पिछले कुछ ही दिनों में आलू का दाम आधे पर आ गया है । जिसकी वजह से किसानों को प्रति एकड़ 25000 रुपये के करीब लागत से भी नुकसान हो रहा है । जसकिरत ने बताया कि अब गर वो खेतों से आलू को निकालकर मंडी ले जाता है तो उसे मजदूरी और ट्रांसपोर्ट का खर्च भी लगेगा, जिससे उसका नुकसान और बढ़ जाएगा । इसी वजह से उसने इस खेती को खेतों में ही नष्ट करने का फैसला किया है ।

घाटे का सौदा आलू की खेती
वहीं एक और किसान के मुताबिक अगर आने वाले समय में यही हालात रहते हैं तो उन्हें आलू की खेती से पहले सोचना पड़ेगा कि वो ये करें या नहीं, किसान इसलिए भी नाराज हैं क्‍योंकि किसान 4 से 6 महीने खेती करता है, मेहनत करता है लेकिन उसके बावजूद वो अपनी लागत तक नहीं निकाल पाता है, जबकि व्यापारी कुछ ही घंटे की जोड़ तोड़ में कई गुना मुनाफा कमा लेता है । गौर करने वाली बात ये है कि आलू की फसल पर किसानों को MSP नहीं मिलता है, इसी वजह से किसानों ने सरकार से मांग की है कि वो कुछ ऐसा तरीका निकाले जिससे किसानों को कम से कम उनकी फसल की लागत मिल पाए ।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment