तबाही का देवता पृथ्वी पर मचा सकता है महाविनाश, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

16 November 2020

तबाही का देवता पृथ्वी पर मचा सकता है महाविनाश, वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी

 

earth

अमेरिका। पृथ्वी के भूगोल से आकाश का खगोल ज्यादा रोमांचकारी है। आकाश में होने वाले हलचलों के बीच वैज्ञानिकों ने चेतावनी जारी की है। पृथ्वी पर महाविनाश लाने में सक्षम ऐस्टरॉइड अपोफिस बहुत तेजी से पृथ्वी की ओर बढ़ रहा है। अमेरिकी वैज्ञानिकों ने चेतावनी दी है कि तबाही का देवता धरती से टकरा सकता है जिससे धरती महाप्रलय में समा जाएगी। अंतरिक्ष में एक महाविनाशक ऐस्टरॉइड बहुत तेजी से गति पकड़ रहा है। यह धरती से टकरा सकता है। इस ऐस्टरॉइड का नाम है अमेरिकी वैज्ञानिकों ने अपोफिस या तबाही का देवता रखा है। अपोफिस अगर पृथ्वी से टकराता है तो 88 करोड़ टन के विस्फोट के बराबर असर होगा। यह ऐस्टरॉइड करीब 1000 फुट चैड़ा है और बहुत तेजी से धरती की ओर बढ़ रहा है। अमेरिकन एस्ट्रोनॉमिकल सोसायटी ने बताया है कि हवाई यूनिवर्सिटी के खगोलविद डेविड थोलेन ने कहा कि सुबारू टेलिस्कोप से मिले डेटा के आधार पर खुलासा हुआ है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अपोफिस बहुत तेजी से गति पकड़ रहा है। उन्होंने कहा कि डेटा से पता चला है कि ऐस्टरॉइड वर्ष 2068 में पृथ्वी से टकरा सकता है।

अपोफिस का नाम यूनान के तबाही के देवता के नाम पर रखा गया है। पृथ्वी से टकराएगा या नहीं इसका सटीक पता वर्ष 2029 में चल सकेगा। 2029 में ऐस्टरॉइड पृथ्वी के बहुत पास से गुजरेगा। इस दौरान ऐस्टरॉइड को बिना किसी दूरबीन के देखा जा सकेगा। अपोफिस फ्रांस के एफिल टावर से आकार में बड़ा है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2029 में अपोफिस अगर पृथ्वी से सुरक्षित दूरी से गुजरता है तो पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति इसका रास्ता बदल देगी। यह वर्ष 2068 में वापस आएगा और पृथ्वी से टकरा सकता है। वैज्ञानिकों का मानना है कि ऐस्टरॉइड 12 अप्रैल 2068 को पृथ्वी से टकरा सकता है। अपोफिस ऐस्टरॉइड की खोज एरिजोना की वेधशाला ने 19 जून, 2004 को की थी।

शोधकर्ताओं ने अपोफिस को इस साल सुबारू टेलिस्कोप के जरिए पता लगाया है। ऐस्टरॉइड सूर्य की रोशनी में गरम हो रहा है। नासा ने इस ऐस्टरॉइड को तीसरा सबसे बड़ा खतरा करार दिया है। इसमें कहा गया है कि अगले 48 साल में ऐस्टरॉइड के धरती से टकराने की संभावना 150,000 है। अपोफिस ऐस्टरॉइड निकेल और लोहा से बना है तथा रेडॉर इमेज से पता चलता है कि यह लगातार लंबा हो रहा है। इसका आकार अब मूंगफली की तरह से होता जा रहा है। इस ऐस्टरॉइड के टकराने की संभावना केवल 2.7 प्रतिशत ही है। हालांकि अब इस नई आशंका से वैज्ञानिकों की पृथ्वी वासियों का तनाव बढ़ा दिया है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment