समधी से चुनाव हारते ही फूट-फूटकर रोने लगीं इमरती देवी, कमलनाथ ने कहा था ‘आइटम’ - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

11 November 2020

समधी से चुनाव हारते ही फूट-फूटकर रोने लगीं इमरती देवी, कमलनाथ ने कहा था ‘आइटम’

 

समधी से चुनाव हारते ही फूट-फूटकर रोने लगीं इमरती देवी, कमलनाथ ने कहा था ‘आइटम’

मध्‍यप्रदेश में एक बार फिर भाजपा पूर्ण बहुमत में आ गई है । उपचुनाव में 28 में से 19 सीटें जीतक बीजेपी ने कमलनाथ के मुख्यमंत्री बनने के सपने पर पानी फेर दिया । कांग्रेस महज 9 सीटों पर ही जीत दर्ज कर सकी है । हालांकि ये नतीजे उपचुनाव की सबसे चर्चित सीट रही डबरा से बीजेपी प्रत्‍याशी इमरती देवी के लिए अच्‍छी खबर नहीं रहे, ये सीट कांग्रेस की झोली में गई। शिवराज सरकार की मंत्री इमरती देवी अपने ही समधी सुरेश राजे से उपचुनाव हार गईं।

रोने लगीं इमरती देवी
मंगलवार को जब मतगणना चल रही थी तो मतगणना  के आखिरी दौर में इमरती देवी पिछड़ गईं, जिसके बाद वो भावुक होकर जाने लगीं । पास खड़ीं एक परिचित महिला के गले लग गईं और फूट-फूटकर रोने लगीं। इमरती देवी इस चुनाव के दौरान, एक बयान के कारण काफी चर्चा में रहीं थीं । उन पर पूर्व मुख्‍यमंत्री कमलनाथ ने एक अभद्र टिप्‍पणी कर दी थी, जिसकी वजह से खूब बवाल हुआ था ।

कह दिया था आइटम
दरअसल, पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कांग्रेस प्रत्याशी सुरेश राजे के समर्थन में प्रचार करने के दौरान एक चुनावी सभा में डबरा से भाजपा प्रत्याशी इमरती देवी के लिए आइटम शब्द का इस्‍तेमाल किया था । कमलनाथ का ये बयान, राष्ट्रीय स्तर तक चर्चा में रहा । इस वजह से चुनाव आयोग ने उनसे स्टार प्रचारक का दर्जा तक छीन लिया था । खुद राहुल गांधी ने इस बयान की निंदा की थी। लेकिन इस सारे हंगामे के बाद भी इस सीट से कांग्रेज ने बाजी मार ली और इमरती देवी चुनाव हार गईं।

नहीं मिली सहानुभूति
कमलनाथ के बयान पर भारतीय जनता पार्टी और सीएम शिवराज ने भी उनका जमकर घेरा था। भाजपा ने इस बयान को भुनाने की खूब कोशिश की थी, उममीद थी कि इमरती देवी को सहानुभूति मिलेगी । लेकिन लगता है जनता को नेताओं की अभद्रता की आदत हो गई है, या उन्‍हें इससे फर्क ही नहीं पड़ता कि एक राजनेता की जुबान कैसी होनी चाहिए । बहरहाल इस सीट पर वो अपने ही समधी सुरेश राजे से हार गईं, जिन्हें वे दलबदल से पहले खुद कांग्रेस में लेकर आईं थीं । आपको बता दें समधी-समधन के बीच, 7 साल पहले 2013 में भी ऐसा मुकाबला हो चुका है। तब BJP ने सुरेश को उस समय कांग्रेस में रहीं इमरती देवी के सामने उतारा था। उस उसमय इमरती देवी ने समधी यानि सुरेश कड़ी शिकस्त दी थी।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment