अर्णब की गिरफ्तारी पर भड़की BJP, तो संजय राउत बोले ‘यहां कानून का राज चलता है’ - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

04 November 2020

अर्णब की गिरफ्तारी पर भड़की BJP, तो संजय राउत बोले ‘यहां कानून का राज चलता है’

 

इस वक्त खबरों की दुनिया में देश के वरिष्ठ पत्रकार अर्णब गोस्वामी की गिरफ्तारी छाई हुई है। हर जुबां पर उनकी गिरफ्तारी को लेकर प्रतिक्रियाओं का दौर शुरू हो चला है। बात दें कि आज सुबह ही महाराष्ट्र पुलिस ने उन्हें उनके  आवास से एक पुराने केस के सिलसिले में गिऱफ्तार कर लिया है। इस दौरान उन्होंने महाराष्ट्र पुलिस के रवैये को लेकर जिस तरह के सवाल उठाए हैं। वो इस समय सभी की जुबां पर छाए हुए हैं। अर्णब का कहना है कि पुलिस ने गिरफ्तारी के दौरान उनके साथ बदसुलूकी की है। यहां तक की उनके साथ मारपीट भी की गई। उन्हें दवाई तक नहीं लेने दिया गया।

बताया जा रहा है कि उन्हें 2018 के एक पुराने केस के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया है। उन पर आरोप है कि उन्होेंने इंटीरियर डिजाइनर अन्वय नाइक को उनकी पुरानी बकाई राशि नहीं चुकाई थी, जिसके चलते वे आत्महत्या करने पर मजबूर हो गए, जिसके बाद अब इन आरोपों के चलते पुलिस ने अर्णब को गिरफ्तार कर लिया है। उधर, रिपब्लिक टीवी ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया है। उधर, उनकी गिरफ्तारी के बाद से अब प्रतिक्रियाओं का सिलसिला शुरू हो चला है। वहीं, बीजेपी ने उनकी गिरफ्तारी को आपातकाल की संज्ञा तक दे दी है।

उधर, शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राउत ने अर्णब की गिरफ्तारी पर कहा कि महाराष्ट्र में कानून काी पालन किया जाता है। अगर किसी के खिलाफ सुबूत है तो उस पर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि ठाकरे सरकार के गठन के बाद से किसी के खिलाफ प्रतिशोध लेने के उद्देश्य से कोई कार्रवाई नहीं की गई है। वहीं, बीजेपी के नेता अर्णब की गिरफ्तारी की भत्सर्ना कर रहे हैं। उन्होंने इस आलम को आपातकाल की संज्ञा दी है।

बीजेपी के वरिष्ठ नेता धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि लोकतंत्र में इससे खराब दिन कुछ नहीं हो सकता है कि देश के वरिष्ठ पत्रकार के साथ अमानवीय व्यवहार किया है। इसकी जितनी निंदा की जाए।  उतनी कम है। उधर, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री ईरानी ने ट्वीट किया, ”स्वतंत्र प्रेस के लोग अगर आज अर्नब के समर्थन में खड़े नहीं होते हैं , तो आप रणनीतिक रूप से फासीवाद के समर्थन में हैं। आप भले ही उन्हें पसंद नहीं करते हों, आप उनको चाहे मान्यता नहीं देते हों, भले ही आप उनकी उपस्थिति को नजर अंदाज करते हों लेकिन अगर आप चुप रहे तो आप दमन का समर्थन करते हैं। अगर अगले शिकार आप होंगे, तो फिर कौन बोलेगा?”

दॉ एडिटर गिल्ड का बयान
उधर, अर्णब की गिरफ्तारी पर दॉ एडिटर गिल्ड ने महाराष्ट्र सरकार से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि वरिष्ठ पत्रकार अर्णब गोस्वामी के साथ उचित व्यवहार किया जाए और मीडिया द्वारा रिपोर्टिंग के खिलाफ राज्य शक्तियों का उपयोग न किया जाए। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर ने अर्णब की गिरफ्तारी पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि हम महाराष्ट्र में प्रेस स्वतंत्रता पर हमले की निंदा करते हैं। यह प्रेस के साथ व्यवहार का तरीका नहीं है। यह हमें उन आपातकालीन दिनों की याद दिलाता है जब प्रेस को इस तरह से व्यवहार किया गया था। 


आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment