कैंसर की बीमारी बताकर महिला ने इकट्ठे किए 44 लाख से ज्यादा फंड, जुए और अय्याशी में लुटाए सारे पैसे - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

11 November 2020

कैंसर की बीमारी बताकर महिला ने इकट्ठे किए 44 लाख से ज्यादा फंड, जुए और अय्याशी में लुटाए सारे पैसे

आज के समय में सोशल मीडिया के जरिए किसी भी इंसान की मदद घंटों में हो जाती है. ये एक ऐसा जरिया है, जो जरूरतमंद लोगों की मदद में भी काम आता है. लेकिन जब इस जरिया का गलत इस्तेमाल होने लगे तो, कई बार सच्चाई को भी लोग नकार देते हैं. क्योंकि सवाल उठने पर लोग सचेत हो जाते हैं, ऐसे में जरूरमंद लोगों की भी मदद को नुकसान पहुंच सकता है. ऐसा हम आपसे इसलिए कह रहे हैं, क्योंकि जिस खबर से हम आपको रूबरू करवाने जा रहे हैं, उसके बारे में जानने के बाद शायद आप भी किसी जरूरतमंद शख्स की मदद करने से पहले चार बार सोचेंगे. लेकिन सच्चाई ये है कि हर शख्स एक जैसा नहीं होता है.

हाल ही में यूके से एक खबर सामने आई है. जहां पर महिला के खिलाफ धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया है. बताया जा रहा है कि इस महिला ने अपने आपको कैंसर पीड़ित बताकर ऑनलाइन फंडिंग की रिक्वेस्ट की थी. ऐसे में जब महिला को फंड्स मिल गए तो उसने इन पैसों से कई सारी चीजें की और इसका इस्तेमाल उसने ऑनलाइन गैंबलिंग में भी की.

जानकारी के मुताबिक जिस महिला पर इस तरह का आरोप लगा है, उसकी उम्र 42 साल है. महिला का नाम निकोल बताया जा रहा है. जिन्होंने गोफंडमी पेज पर खुद को एक कैंसर पीड़ित महिला बताया था. पेज पर निकोल की ओर से जो एक तस्वीर साझा की गई थी उसे भी आप साफतौर पर देख सकते हैं. इस तस्वीर में निकोल बहुत ही ज्यादा कमजोर नजर आ रही हैं. वो इस फोटो में एक ब्लैंकेट को ओढ़कर लेटी हुई दिखाई दे रही हैं.

बता दें कि निकोल की ये तस्वीर कैंसर की बीमारी से संबंधित नहीं है. बल्कि ये तस्वीर उस ऑपरेशन के दौरान की है जब उन्होंने अपना गॉल ब्लैडर हटवाया था. हैरानी वाली बात तो ये है कि कैंसर की बीमारी (Cancer disease) का बहाना करके निकोल ने पूरे 45 हजार पाउंड (45 thousand pounds) की फंडिंग इकट्ठा कर ली थी.Fake cancerइस केस के बारे में प्रासीक्यूटर बेन इर्विन ने बात करते हुए कहा कि ये सारी कहानियां निकोल ने अपनी लाइफस्टाइल को बरकरार रखने के लिए सुनाई थी.

प्रासीक्यूटर ने ये भी जानकारी दी कि फंड से इकट्ठे किए गए पैसे को उन्होंने कैंसर का इलाज कराने में नहीं लगाया. बल्कि इस पैसे का इस्तेमाल उन्होंने कई अलग-अलग चीजों में किया.Fake cancerजिसमें ट्रैवलिंग से लेकर ऑनलाइन गैंबलिंग, रेस्टोरेंट्स बिल्स और फुटबॉल मैच देखने के लिए एयर टिकेट्स भी शामिल हैं. यहां तक कि इस केस के बारे में बात करते हुए गायनोकोलॉजिस्ट और निकोल की मित्र निकोलस मॉरिस ने भी ये खुलासा किया है कि निकोल को कोई भी दिक्कत नहीं है. उन्हें कैंसर जैसी कोई बीमारी नहीं है.

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment