42 रूपये में यह योजना आपके बुढ़ापे का बन सकती है सहारा - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

22 November 2020

42 रूपये में यह योजना आपके बुढ़ापे का बन सकती है सहारा

 

pention

नई दिल्ली। प्रत्येक व्यक्ति चाहता है कि उसका बुढ़ापा इज्जत और आर्थिक सुरक्षा के बीच गुजरे। ऐसे में हर कोई अपने भविष्य को आर्थिक मजबूती देना चाहते है। बुढ़ापे की सहारा के रूप में भारत सरकार ने एक योजना तैयार की है। इस आर्थिक योजना में थोड़ी सी बचत और निवेश बुढ़ापे को सुरक्षित कर सकता है। सेवा निवृति की उम्र के बाद केंद्र सरकार की अटल पेंशन योजना लोगोें की सहारा बन रही है। इस योजना के उपभोक्ताओं की संख्या ढाई करोड़ से ज्यादा हो चुकी है। इस अटल पेंशन योजना के तहत सरकार असंगठित क्षेत्र के लोगों के लिए प्रति माह पेंशन की व्यवस्था करती है। गरीब और मजदूर तबके के लोग इस स्कीम का फायदा उठा सकते हंै। अटल पेंशन योजना में करीब 2.45 करोड़ अंशधारक जुड़ चुके हैं। ज्ञात कि दीपावली के बाद अक्टूबर के अंत में इस योजना के प्रति 34.51 प्रतिशत वृद्धि हुई है। इस योजना में सिर्फ 42 रुपये प्रति माह जमा करना होगा। इसके लिए 18 साल में इस स्कीम में जुड़ना होगा। प्रति माह 42 रुपये का भुगतान कर 60 साल की उम्र के पड़ाव को पार कर लेने के बाद आपको 1 हजार रुपये महीना पेंशन मिलेगी। अगर आप 210 रुपये महीना जमा करेंगे तो आपको 5 हजार रुपये महीना पेंशन निश्चित मिलेगी। अटल पेंशन योजना का लक्ष्य वृद्धावस्था में आय सुरक्षा प्रदान करना है। इसमें 60 साल की उम्र के बाद न्यूनतम पेंशन की गारंटी दी जाती है।

पेंशन योजना को देश का कोई भी नागरिक 18 से 40 साल की उम्र में ले सकता है। योजना की खासियत यह है कि इसमें अंशधारक के निधन होने पर पेंशन उसके पति, पत्नी को दी जाती है। दोनों के निधन के बाद पेंशन कोश में जमा राशि नामित व्यक्ति को दे दी जाती है। जल्द ही बचत खाताधारक इंटरनेट बैंकिंग के बिना भी अटल पेंशन योजना के तहत खाता खोल सकेंगे। पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी को अपने मौजूदा बचत खाताधारकों को ऑनलाइन खाता खुलवाने के लिए एक वैकल्पिक माध्यम पेश करने की अनुमति है।

नए माध्यम के तहत व्यक्ति इंटरनेट बैंकिंग या मोबाइल ऐप का इस्तेमाल किए बिना भी अकाउंट खोल सकेगा। बैंक खाताधारक को खाता ऑनलाइन खुलवाने की सुविधा देने वाले बैंकों के पोर्टल पर जाना होगा। इसके बाद उन्हें कस्टमर को या बचत खाता संख्या आधार डालकर रजिस्ट्रेशन करना होगा। रजिस्ट्रेशन ओटीपी बेस्ड ऑथेटिकेशन के जरिए पूरा होगा। सरकार की यह योजना देष के बुजुगों के लिए सहारा साबित होगी।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment