पप्‍पू यादव पर बरसाई गईं थीं 10 हजार राउंड गोलियां, 8 घंटे चली फायरिंग में ऐसे बची थी जान - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

06 November 2020

पप्‍पू यादव पर बरसाई गईं थीं 10 हजार राउंड गोलियां, 8 घंटे चली फायरिंग में ऐसे बची थी जान

 

पप्‍पू यादव पर बरसाई गईं थीं 10 हजार राउंड गोलियां, 8 घंटे चली फायरिंग में ऐसे बची थी जान

बिहार विधानसभा चुनाव में अब 7 नवंबर का इंतजार है, मतदान के आखिरी चरण में हर प्रत्‍याशी की किस्‍मत ईवीएम में बंद हो जाएगी और फिर नतीजे राज्‍य की सत्‍ता का फैसला करेंगे । इस बार के चुनाव में पप्‍पू यादव का नाम खासा चर्चा में है, एक जमाने के बाहुबली रहे पप्‍पू यादव इस बार के चुनाव में अपनी पार्टी लेकर राजनीति करने उतरे हैं । लेकिन वो दौर भी बिहार को अच्‍छे से याद है जब पप्पू यादव बाहुबली थे और मर्डर के आरोप में जेल की सजा काट रहे थे ।

हुआ था जानलेवा हमला
आप ये जानकर हैरान होंगे कि पप्‍पू यादव देश की सर्वोच्च संस्था संसद में बेहतरीन परफॉर्मेंस देने वाले लोकसभा सांसद का खिताब अपने नाम कर चुके हैं। बहरहाल, पप्पू यादव के ऊपर एक बार ऐसा जानलेवा हमला हुआ था कि उनके लिए प्राण बचाना मुश्किल हो गया था । खुद बाहुबली नेता ने इस बात का खुलासा किया । बिहार के इतिहास में, जेल में बंद बाहुबली आनंद मोहन सिंह औऱ पप्पू यादव की दुश्मनी के ढेरों किस्‍से मौजूद हैं ।

हमले के बारे में बोले पप्‍पू यादव
द लल्लनटॉप को दिए एक इंटरव्यू में पप्पू यादव ने खुद पर हुए एक बड़े हमले के बारे में बताया था, हालांकि उन्‍होंने कहा कि पूर्व सांसद आनंद मोहन सिंह के साथ उनकी कभी दुश्मनी रही ही नहीं। जो कुछ भी था वो सिर्फ कॉलेज के दिनों की हीरोपंती थी। पप्पू यादव ने इस इंटरव्यू में एक घटना का जिक्र करते हुए बताया कि जब शरद यादव मधेपुरा से चुनाव लड़ रहे थे तो आनंद मोहन सिंह उनका विरोध कर रहे थे।

मुश्किल से बची थी जान
उन्‍होंने बताया कि उस चुनाव में कई जगहों पर हिंसक घटनाए हुईं थीं । उन घटनाओं के लिए लालू प्रसाद यादव ने मेरा नाम आगे कर दिया। पप्पू यादव ने कहा- एक दिन जिले के एक गांव में दलितों के साथ हिंसा की घटना की सूचना पाकर मैं वहां पहुंचा तो मुझपर ही हमला हो गया। पप्पू यादव ने इंटरव्‍यू में बताया कि उन पर 10 हजार राउंड गोलियां चलाई गईं। 8 घंटे तक गोलीबारी होती रही थी। इस हमले में पप्पू यादव के तीन साथी मारे गए । उस दिन को याद करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि, उस दिन अगर जिले के डीएम और एसपी समय़ से ना पहुंचे होते तो हमले में उनकी भी मौत हो जाती।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment