भारत से लेकर विदेश तक गांधी जी के नाम पर है इतनी सड़के, जानकर दंग रह जाएंगे आप - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

02 October 2020

भारत से लेकर विदेश तक गांधी जी के नाम पर है इतनी सड़के, जानकर दंग रह जाएंगे आप

 


राष्ट्रपति महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को हुआ था। उनकी याद में हर साल देशभर में इस दिन को गांधी जी की जयंती के नाम पर मनाते हैं। देश को आजादी दिलाने के लिए गांधी जी ने कई आंदोलन किए। महात्मा गांधी ने अंग्रेजों के खिलाफ 1917 में चंपारण सत्याग्रह की शुरूआत की थी।

बिहार के चंपारण से इस सत्याग्रह की शुरूआत किसानों को न्याय दिलाने के लिए की गई थी। बता दें कि उस वक्त अंग्रेजों ने किसानों को जबरन नील जैसे फसल उगाने को बाध्य किया था। महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। देश को स्वतंत्रता दिलवाने में इनकी विशेष भूमिका रही है। गांधी जी के पिता का नाम करमचंद गांधी था जो कि राजकोट के दीवान थे और इनकी माता का नाम पुतलीबाई था।

देश को स्वतंत्रता दिलाने वाले गांधी जी के नाम पर देश से लेकर विदेश तक में कई सड़कें उनके नाम पर हैं। भारत में छोटी सड़कों को छोड़कर कुल 53 ऐसी बड़ी सड़कें हैं जो महात्मा गांधी जी के नाम पर हैं। वहीं विदेशों की बात की जाए तो कुल 48 सड़कें महात्मा गांधी जी के नाम पर हैं। महात्मा गांधी की शादी 13 साल की ही उम्र में कस्तूरबा गांधी से हुई थी।

गांधी जी को रवीन्द्रनाथ टैगोर ने महात्मा की उपाधि दी थी। वहीं गांधी जी ने रवीन्द्रनाथ टैगोर को गुरुदेव की उपाधि दी थी। दुनिया की सबसे बड़ी मोबाइल कंपनियों में से एक एप्पल के संस्थापक स्टीव जॉब्स गांधी जी को सम्मान देने के लिए गोल चश्मा पहनते थे। महात्मा गांधी लंदन में कानून की पढ़ाई करने और बैरिस्टर बनने के लिये गए थे। उन्होंने लंदन में पढ़ाई कर बैरिस्टर की डिग्री प्राप्त की थी, लेकिन बंबई उच्च न्यायालय में हुई पहली बहस में वे असफल रहे थे।

महात्मा गांधी को 5 बार नोबेल पुरस्कार के लिए नामित किया गया था, लेकिन उन्हें एक बार भी नोबेल पुरस्कार नहीं मिला। बापू रोज 18 किलोमीटर पैदल चलते थे। महात्मा गांधी ने 12 मार्च 1930 में अहमदाबाद के साबरमती आश्रम दांडी गांव तक पूरे 24 दिनों का पैदल मार्च निकाला था।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment