चीन को सता रहा है हमले का डर, तटीय क्षेत्रों में तैनात की आधुनिक मिसाइलें - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

18 October 2020

चीन को सता रहा है हमले का डर, तटीय क्षेत्रों में तैनात की आधुनिक मिसाइलें

 

चीन इन दिनों डरा-डरा सा है, उसे इस बात खौफ है कि, उसका ही पड़ोसी देश ताइवान (Taiwan) उस पर हमला न कर दे। चीन (China) के साथ उसके किसी भी पड़ोसी देश के रिश्ते बेहतर नहीं है। ताइवान को चीन अपने ही देश का हिस्सा बताता है और उस पर हुकूमत चलाने के प्रयास में लगा रहता है। पिछले दिनों जब से अमेरिका (America) और ताइवान के बीच दोस्ती बढ़ी है, उससे चीन की नींद ख़राब हो गई है। चीन को उसके सूत्रों ने बताया कि, ताइवान उस पर हमला कर सकता है। हमले के खौफ के बीच पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) अपने मिसाइल बेस को अपग्रेड करने लग गई है। इस बीच जानकारी सामने आ रही है कि, चीन ने अपने दक्षिण पूर्व तट पर सबसे अत्याधुनिक हाइपरसोनिक मिसाइल DF-17 को तैनात कर दिया है।

चीन के दक्षिण पूर्व क्षेत्र में पिछले कई दशकों से DF-11 और DF-15 मिसाइल तैनात हैं। इसकी जगह है DF-17 हाइपरसोनिक मिसाइल लेंगी। सूत्रों के अनुसार, यह नई मिसाइल की अधिक दूरी तक एक दम सटीक वार कर सकती है। इस मिसाइल को पिछले वर्ष अक्टूबर माह में पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ चीन की स्थापना के 70 वर्ष पूरे होने पर नेशनल डे परेड में शामिल किया गया था। जिसे पहले बार दुनिया ने देखा था, इस मिसाइल की मारक क्षमता 2,500 किलोमीटर हैं। गौरतलब है कि, चीन ताइवान को अपना ही एक अलग प्रान्त मानता है, जिसे वो वापस लेने की वो कसम खा चुका है।

चीन और ताइवान के बीच रिश्ते वर्ष 2016 से ख़राब होने तब शुरू हो गए जब प्रोग्रेसिव पार्टी की अध्यक्ष त्सई इंग-वेन डेमोक्रेटिक चुनी गईं। उन्होंने एक चीन के सिद्धांत को मानने से साफ़ इंकार कर दिया। पिछले दिनों ताइवान और अमेरिका के बीच में भी हथियारों को लेकर कई बड़े सौदें हुए हैं। इसे लेकर भी चीन ताइवान से नाराज है, चीन यह भी जानता है कि, ताइवान और अमेरिका की दोस्ती आगे बढ़ गई तो चीन उस पर कभी कब्ज़ा नहीं कर पायेगा।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment