नाबालिग बहनों से रेप की हाथरस की घटना से तुलना करने पर सीएम गहलोत ने जताई हैरानी - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

01 October 2020

नाबालिग बहनों से रेप की हाथरस की घटना से तुलना करने पर सीएम गहलोत ने जताई हैरानी

 

जयपुर। उत्तर प्रदेश के हाथरस में गैंगरेप की घटना व पुलिसिया कार्रवाई के खिलाफ गुस्सा पूरे देश में देखा जा रहा है। ऐसी वीभत्स घटनाओं पर लोगों में आक्रोश व गुस्सा आना स्वभाविक है। लेकिन ऐसी घटनाओं का राजनीतिकरण किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। जबकि हाथरस की घटना कांग्रेस पार्टी की तरफ से राजनीति शुरू कर दी गई है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि राजस्थान के बारां की दो नाबालिग बहनों के साथ सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आती है। लेकिन कांग्रेस नेता राहुल गांधी व महासचिव प्रियंका गांधी की तरफ से इंसाफ की मांग करना तो दूर की बात ट्वीट कर घटना की निंदा तक नहीं की गई। जबकि उत्तर प्रदेश के हाथरस में हुई हैवानियत की घटना पर भाई—बहन सहित पूरी पार्टी सड़क पर उतर गई है।

इस बात को लेकर सत्ता पक्ष और विपक्ष के बीच सोशल मीडिया पर जमकर सवाल—जवाब हो रहे हैं। वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बेशर्मीपूर्ण बयान दिया है। उन्होंने राजस्थान के बारां की दो नाबालिग बहनों के साथ गैंगरेप को हाथरस की घटना से तुलना करने पर हैरानी जताई है। उन्होंने कहा कि लड़कियों ने मजिस्ट्रेट के समझ दिए अपने बयान में किसी तरह की ज्यादती होने की बात से इनकार किया और कहा है कि वह अपनी मर्जी से लड़कों के साथ घूमने गई थीं। उनका यह तर्क कितना वाजिब है, इसे वह खुद ही समझ सकते हैं। जबकि लड़कियों के परिवार वालों ने आरोप लगाय है कि 18 से 21 सितंबर तक युवक दोनों लड़कियों को कोटा, जयपुर और अजमेर ले गए और सामूहिक दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया।

पीड़ित लड़कियों के परिजनों का आरोप है कि पुलिस ने इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं की। परिजनों के अनुसार पुलिस ने आरोपी लड़कों को छोड़ दिया और उल्टे लड़कियों को सखी केंद्र भेज दिया। इस पूरे प्रकरण में सफाई देते हुए मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि उत्तर प्रदेश के हाथरस में घटित यह घटना बेहद निंदनीय है, उसकी जितनी निंदा की जाए कम है। राजस्थान के बारां में हुई घटना की हाथरस की घटना से तुलना किया जाना दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा, घटना होना एक बात है और उप पर कार्रवाई होना दूसरी। इस मामले को मीडिया का एक वर्ग और विपक्ष हाथरस जैसी वीभत्स घटना से तुलना करके देश की जनता को गुमराह करने में लगे हुए हैं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment