गैंगरेप पीड़िता को पूरे दिन थाने में बैठाए रही कानपुर पुलिस, नहीं दर्ज की एफआईआर - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

08 October 2020

गैंगरेप पीड़िता को पूरे दिन थाने में बैठाए रही कानपुर पुलिस, नहीं दर्ज की एफआईआर

 

कानपुर। हाथरस और बलरामपुर की घटना का आक्रोश अभी ठंडा भी नहीं हुआ है लेकिन यूपी पुलिस है कि सुधरने का नाम ही नहीं ले रही है। कानपुर पुलिस का फिर बेशर्म चेहरा सामने आया है। यहां पुलिस ने गैंगरेप पीड़िता की एफआईआर दर्ज करने की जगह सुबह से लेकर शाम तक थाने में न सिर्फ बैठाए रखा बल्कि उलटे उसे ही घटना के लिए दोषी ठहराते रहे। बता दें कि हाथरस में पुलिस की लापरवाही का खामियाजा पूरी सरकार को भुगतना पड़ रहा है। जबकि मामले में सच क्या है यह अभी आना बाकी है। लेकिन विपक्ष योगी सरकार को दोषी मानकर उनके इस्तीफे की लगतार मांग कर रही है।

जानकारी के अनुसार बर्रा थानाक्षेत्र के सोना मेनशन होटल में युवती को उसके साथी दो युवकों ने नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ गैंगरेप किया। युवती के मुताबिक उसकी सहेली ने पार्टी का बहाना कर उसे होटल ले गई थी। कल्याणपुर की रहने वाली युवती के मुताबिक उसकी सहेली ने उसको पार्टी की बात कहकर गोविन्द नगर लाई थी। इसके बाद उसने गोविन्द नगर की जगह बर्रा के होटल सोना मैन्सन में ले गई। जहां पार्टी की बात कहकर नशीला पदार्थ पिला दिया गया। आरोप है कि इसी दौरान दो लोगों ने उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया।

नशीला पदार्थ पीने के बाद युवती बेहोश हो गई। आरोप है कि दो युवकों अभिषेक और आशीष ने युवती के साथ दुष्कर्म किया। सुबह होश आने पर जब युवती को अपने साथ हुई दरिंदगी का पता चला तो वह यहां से सीधे थाने पहुंच गई। यहां पुलिस से वह दिनभर आरोपियों के खिलाफ मुकदमा लिखने की गुहार लगाती रही लेकिन बर्रा थाने की पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने के जगह पीड़िता के ही चरित्र पर सवाल उठाने शुरू कर दिए। मीडिया में मामला आने के बाद पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया और आरोपियों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की बात करके मामले से पीछा छुड़ा लिया है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment