छोटे से चूहे ने कर दिया ऐसा कमाल, NGO को करना पड़ा इस बड़े पुरस्कार से सम्मानित - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

26 September 2020

छोटे से चूहे ने कर दिया ऐसा कमाल, NGO को करना पड़ा इस बड़े पुरस्कार से सम्मानित

 

बड़े-बड़े और हैरतअंगेज कारनामों की उम्मीद आप किससे करेंगे? किसी इंसान से ही करेंगे। आप भला थोड़ी न किसी बेजुबान जानवर से इस तरह के कारनामों की उम्मीद कर सकते हैं। उधर, लेकिन अगर आप अभी तक यही सोचते आ रहें हैं कि इस तरह के कारनामे महज इंसान ही कर सकते हैं। जानवरों से इस तरह उम्मीद करता हिमाकत होगी। अगर आप अभी तक ऐसा सोच रहे हैं तो हमारा यकीन मानिए हमारी इस खबर को पढ़ने के बाद आपका यह मिथक अब टूट जाएगा।

चूहे ने कर दिखाया कमाल 
यहां पर हम आपको लंदन के एक चूहे के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसने कमाल कर दिखाया है। यहां तक की वहां के आलाधिकारियों को उसे सम्मानित करना पड़ गया। इस चूहे का नाम मागवा है।  जिसे उसके इस कारनामे के लिए पीडीएसए गोल्ड मेडल से नवाजा गया है। यह मैडल आमतौर पर किसी जानवर को सम्मानित करने के लिए दिया जाता है। मागवा 39 से ज्यादा बारूदी सुरंग और अन्य विस्फोटक सामग्री का पता लगा चुका है। आपको यह जानकर यह हैरानी होगी कि सुरंग का पता चलने पर यह जमीन को खोदना शुरू कर देता है। उसकी मौजूदगी में हर तरह के विस्फोटकों का पता लगाया जाता है। इस मागवा को बेल्जियम के एनपीओ ने प्रशिक्षित किया है। यह  वर्ष 1990 से बारूदी सुरंग का पता लगाने के लिए काम कर रहा है।

आखिर इसे क्यों दिया गया पुरुस्कार 
अब तनिक ही सही लेकिन आपके जेहन में यह सवाल जरूर उभर रहा होगा कि आखिर इस चूहे को पुरूस्कृति किया गया। बताते चले कि ब्रिटेन की एक चैरिटी संस्था ने अफ्रीकी नस्ल के एक विशाल चूहे को उसकी बहादुरी के लिए गोल्ड मेडल दिया है। इस चूहे ने बारूदी सुरंग हटाने में मदद की थी।  मागवा ऐसा करने वाला पहला चूहा बन गया है। यह चूहा सात साल का है।  उसने सूंघकर 39 बारूदी सुरंगों का पता लगाया। इसके अलावा उसने 28 दूसरे ऐसे गोला बारूद का भी पता लगाया जो फटे नहीं थे। 

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment