अजब-ग़ज़ब : ये रहे दुनिया के सबसे अनोखे घर, देखकर ही फटी रह जाएंगी आँखें - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

10 September 2020

अजब-ग़ज़ब : ये रहे दुनिया के सबसे अनोखे घर, देखकर ही फटी रह जाएंगी आँखें

 रहने के लिए सबको आराम नहीं चाहिए, कुछ रोमांच ढूढ़ते हैं। हालांकि बहुत से लोग ऐसे हैं जिनको रिहायश के नाम पर थोड़ी भी दिक्कत आ जाये तो उनका करेज काँप जाता है। लेकिन दुनिया में कुछ लोग ऐसी जगहों पर रहते हैं, जिनके बारे में जानकर आप हर मुश्किल को छोटा ही कह दोगे और कम से कम सुविधा में भी अच्छा महसूस करने लगोगे।

ये देखिए, दुनिया के सबसे रोमांचित कर देने वाले घर-
अल हजराह, यमन (Al azra, Yemen)
यमन के हराज पहाड़ों पर सबसे ऊंचाई पर बसा ये दीवारों का शहर है जिसे अल हजराह के नाम से जाना जाता है। हालांकि अधिकारिक तौर पर इसे 12वीं सदी का माना जाता है। दीवार जैसे दिखने वाले इन कई मंजिला मकानों का समय-समय पर पुर्ननिर्माण होता रहा है।
सीलैण्ड (SeaLand)
समुद्र में जिस जगह पर ये घर बना है उस पर किसी भी देश का अधिकार नहीं है। ये जगह रहने के लिए बेहद ही अजीब है। कुछ समीक्षकों ने इसे दुनिया के सबसे छोटे राज्य का दर्जा भी दिया था। सीलैंड पर बना ये सीफोर्ट ग्रेट ब्रिटेन आईलैंड से 13 किलोमीटर दूरी पर मौजूद है। पूर्व में सीलैंड का अपना पासपोर्ट और अपनी मुद्रा थी।
सेटेनिल डी लास बोडेगास, स्पेन (Setenil de las bodegas, Spain)
स्पेन के एन्डालूसिया प्रांत में सेटेनिल डी लास बोडेगास नाम के इस शहर में लगभग 3,000 लोगों की आबादी है। इसे देख यकीन नहीं होता कि पूरा का पूरा शहर पहाड़ों के नीचे बसा हुआ है। ये छोटा सा शहर कैडिज प्रांत के उत्तरपूर्व में लगभग 157 किलोमीटर दूर स्थित है।
पोन्टे वेकियो, इटली (Ponte vecchio, Italy)
ये इटली के फिरेन्डे शहर के यादगार पुलों में से एक है, जिसे पोन्टे वेकियो यानी पुराने ब्रिज (ओल्ड ब्रिज) के नाम से जाना जाता है। ये आर्नो नदी पर बना है। इस पुल का निर्माण 1345 ई. में उस वक्त हुआ था जब नदी को पैदल पार करने के लिए बने दो पुल बाढ़ में नष्ट हो गए थे। कुछ समय बाद इस पुल पर मकान और दुकानें बन गईं, जो समय के साथ बढ़ती जा रही हैं।
कासा दो पेनेडो, पुर्तगाल (Casa do penedo, Portugal)
पुर्तगाल की फेफ पहाड़ी में बना ये घर बेहद अनोखा है। इसका निर्माण 1974 में एक इंजीनियर ने किया था। इसे स्टोन हाउस के नाम से भी जाना जाता है। ये घर चार बोल्डरों से मिलकर बना है। दरवाजे, खिड़कियों और छत को छोड़ दिया जाए तो ये घर पत्थरों से बना है।
हैंगिंग मॉनेस्ट्री, चीन (Hanging monastery, China)
चीन के शांझी प्रांत में मौजूद हेंग माउंटेन के किनारे पर हवा में झूलते इन मकानों को हैंगिंग मॉनेस्ट्री के नाम से भी जाना जाता है। इसके पास से गोल्डन ड्रैगन नदी होकर गुज़रती है, इसीलिए इसे ज़मीन के बहुत ऊंचाई पर बनाया गया है ताकि बाढ़ से इसे नुकसान न पहुंच सके। ये पर्यटकों की पसंदीदा जगहों में से एक है।
मतमाता, ट्यूनीशिया (Matmata, Tunisia)
मतमाता दक्षिण ट्यूनीशिया से 335 किलोमीटर दूर बसा है। ये अफ्रीका की खानाबदोश जनजातियों का छोटा-सा ठिकाना है। इस गांव में बने मकान ज़मीन में गढ्डे खोदकर बनाए गए हैं जो बिल्कुल मानव निर्मित गुफ़ाओं जैसी दिखती हैं। ये मकान ज़मीन के अंदर ही अंदर गुफाओं के ज़रिए आपस में जुड़े हैं। 2004 के आंकड़ों के अनुसार यहां की जनसंख्या 2,116 थी।
कप्पादोकिया, तुर्की (Cappadocia, Turkey)
तुर्की के प्राचीन अनाटोलिया प्रांत में मौजूद ये खूबसूरत जगह इंसानों के सबसे पुराने ठिकानों में से एक मानी जाती है। कप्पादोकिया को देखकर पता चलता है कि मानव विकास किस क्रम में आगे बढ़ा। यहां मौजूद ईसा पूर्व 6वीं सदी के रिकॉर्ड ये बताते हैं कि ये पारसी साम्राज्य का सबसे पुराना प्रांत रहा है। यूनेस्को ने इसे विश्व धरोहरों में शामिल किया है।
रॉसानोऊ मॉनेस्ट्री, ग्रीस (Roussanou monastery, Greece)
ग्रीस के थेसले इलाके में खंभेनुमा खड़ी पहाड़ी पर मौजूद है ये रॉसानोऊ मॉनेस्ट्री। 1545 में इसका दोबारा निर्माण कराया गया। इसे दो भाइयों मैक्सिमोस और लोआस्फ ने मिलकर बनाया। इसमें चर्च, गेस्ट क्वार्टर, रिसेप्शन हॉल और डिस्प्ले हॉल समेत रहने की व्यवस्था है। 1800 में लकड़ी का पुल बनने के बाद से यहां पहुंचना आसान हो गया है। रॉसानोऊ मॉनेस्ट्री 1988 से ननों के एक छोटे से समूह के रहने का ठिकाना बन चुका है।
आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment