योगी सरकार के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र पहुंचे डॉ. कफील खान, जानें क्या है मामला - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

21 September 2020

योगी सरकार के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र पहुंचे डॉ. कफील खान, जानें क्या है मामला

 

लखनऊ। गोरखपुर बीआरडी मेडिकल कॉलेज में हुए आक्सीजन कांड में आरोपी डॉ. कफील खान अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से खुली बगावत करने में लगे हुए हैं। कफील खान ने अब योगी सरकार के खिलाफ अपनी लड़ाई को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचा दिया है। बता दें कि राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत जेल में बंद डॉ. कफील खान को बीते दिनों रिहा किया गया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने जयपुर में डॉ. कफील के रहने का प्रबंध करा दिया है और वह वहीं रह रहे हैं। इस बीच खान ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग को एक पत्र भेजकर आरोप लगाया है कि भारत में अंतरराष्ट्रीय मानव सुरक्षा मानकों का उल्लंघन कर असहमति की आवाज को दबाने के लिए एनएसए और यूएपीए जैसे सख्त कानूनों के दुरुपयोग किया जा रहा है।

कफील खान ने पत्र में लिखा है कि मानव अधिकार के रक्षकों के खिलाफ कानून का दुरुपयोग करते हुए आतंकवाद और एनएसए कानूनों के तहत फंसाया जा रहा है। इससे देश का गरीब और हाशिए पर रहने वाला वर्ग काफी प्रभावित हो रहा है। बताते चलें कि 26 जून को संयुक्त राष्ट्र के निकाय ने डॉ. कफील खान और शर्जील इमाम सहित अन्य लोगों पर लगाए गए 11 मामलों का जिक्र करते हुए भारत सरकार को पत्र लिखा था, जिसमें मानवाधिकारों के उल्लंघन आदि की बात कही गई थी।

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार आयोग को भेजे पत्र में कफील ने जेल में बिताए दिनों के बारे में लिखा, इस दौरान मुझे मानसिक और शारीरिक रूप से प्रताड़ित किया गया और कई दिनों तक भूखा—प्यासा भी रखा गया। सााि ही क्षमता से अधिक कैदियों वाली मथुरा जेल में 7 महीने की सजा के दौरान मेरे साथ कई तरह के अमानवीय व्यवहार किए गए। हाई कोर्ट में न्याय की जीत हुई और एनएसए जैसे धारा को खारिज करते हुए मुझे जमानत दे दी गई। गौरतलब है कि गोरखपुर आक्सीजन कांड के बाद चर्चा में आए कफील खान अब सियासी चेहरा होते जा रहे हैं। हालांकि उन्होंने सियासत में आने की बात खारिज कर दी है, लेकिन सच यह भी है कि इस समय वह कांग्रेस की छत्रछाया में हैं।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment