साउथ अमेरिका से गंगा नदी में आई ऐसी मछली, खौफ में हैं वैज्ञानिक - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

25 September 2020

साउथ अमेरिका से गंगा नदी में आई ऐसी मछली, खौफ में हैं वैज्ञानिक

 

कुदरत ने इस कायनात के लिए बहुत कुछ ऐसा बनाया है, जो एक इंसान को हैरत में डाल देती है। आज हम आपको एक ऐसी ही घटना के बारे में बताने जा रहे हैं,  जिसे जान आप दंग रह जाएंगे। आपके होश फाख्ता हो जाएंगे। दरअसल, साउथ अमेरिका के अमेजॉन नदी से एक मछली, जिसे  लोग ‘माउथ कैटफिश’ कहते हैं। इतना लंबा सफर तय कर अब गंगा नदी में पहुंच चुकी है। जीव वैज्ञानिक इसे देखकर न महज दंग हो रहे हैं बल्कि इससे परिस्थितिक तंत्र को भी खतरा पैदा हो गया है।

अब तो इसे पूरे वातावरण के लिए भी खतरा बताया जा रहा है। साथ ही इस बात को लेकर भी दंग हो रहे हैं कि आखिर  इतना लंंबा सफर तय कर कोई मछली गंगा नदी तक कैसे पहुंच गई। खैर, भले ही अब यह मछली इतनी  लंबी दूरी का सफर तय कर गंगा नदी में पहुंच चुकी हो, मगर अब तो यूं समझिए की खतरे की घंटी बज चुकी। उधर, वैज्ञानिकों का कहना है कि यह मछली मांसाहारी है। ऐसी स्थिति में यह हमारे परिस्थितिक तंत्र के लिए खतरा पैदा कर सकती है।

ऐसी दिखती है मछली 
वही, अगर मछली के रंग रूप आकार की बात करें तो अमेरिका के अमेजॉन नदी में हजारों किलोमीटर दूर पाई जाने वाली सकरमाउथ कैटफिश की तरह लग रही थी। इस मछली का मुंह भी बड़ा अजीब सा लग रहा है। उधर, वैज्ञानिकों के इस बात से भी लोग काफी सकते में आ गए हैं , जिसमें कहा गया है कि यह मछली पूरेे परिस्थितिक तंत्र के लिए खतरा पैदा कर सकती है। वहींं, भारतीय वन्य जीव संस्थान और नमामि गंगे योजना से जुड़े जलीय जीव संरक्षण के लिए काम करने वाले गंगा प्रहरी दर्शन निषाद ने बताया कि डॉल्फिन के संरक्षण के दौरान उन्हें दूसरी अजीब किस्म की मछलियां मिली है।

इसके साथ ही वैज्ञानिकों ने सलाह दी है कि अब की बार इस तरह की मछलियां पाए जाने पर इसे फिर से गंगा नदी में न छोड़ा जाए। उधर, अब लोगों के जेहन में लगातार यही सवाल कौंंध रहा है कि आखिर यह मछलियां इतनी लंबी दूरी का सफर तय कर यहां तक कैसे पहुंची। खैर, इसके पीछे की वजह कुछ भी हो, मगर इस मछली ने यूं समझिए की सभी को सकते में डाल दिया है। 

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment