जानिए, ऑफ़िस जाने वाली लड़कियाँ क्यों करती हैं सेब से अधिक नाशपाती का सेवन - Bollyycorn

Breaking

Bollyycorn

Bollywood-Hollywood-TV Serial-Bhojpuri-Cinema-Politics News, Gadgets News

06 September 2020

जानिए, ऑफ़िस जाने वाली लड़कियाँ क्यों करती हैं सेब से अधिक नाशपाती का सेवन

नाशपाती का फल किसी दैवीय उपहार से कम नहीं है। वास्तव में यह एक सुपरफूड की तरह है। यही कारण है कि ज़्यादातर ऑफ़िस जाने वाली लड़कियाँ नाशपाती का सेवन करती हैं। हालाँकि जैसा कि आपको पता ही होगा कि लोगों को उसमें भी ख़ासकर महिलाओं को सेब का सेवन करना अधिक पसन्द होता है और ऐसा ही अधिकतर प्रचारित और प्रसारित भी किया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं नाशपाती का सेवन सेब से भी अधिक फ़ायदेमंद होता है। इसकी तरह-तरह की क़िसमें बाज़ार में उपलब्ध होती हैं, जिनमें से सबसे अधिक प्रचलित नाशपाती की क़िस्म बग्गूगोसा लोकप्रिय मानी जाती है, क्योंकि इसमें शर्करा की मात्रा अपेक्षाकृत अधिक होती है और यह कड़क भी कम होती है।
वास्तव में ननाशपाती न सिर्फ खाने में टेस्टी होता है, बल्कि यह एक सुपरफूड भी है क्योंकि यह सेहत के लिए भी कई तरह से फायदेमंद है। आपको बता दें कि नाशपाती भी सेब से जुड़ा एक उप-अम्लीय फल है, लेकिन इसमें शर्करा अधिक तथा अम्ल कम पाया जाता है, इसलिए यह खाने में रुचिकर लगता है। एक बात और कि नाशपाती में सेब की अपेक्षा अदिक पानी पाया जाता है। इसलिए यह सेब से अधिक एनर्जेटिक भी होता है।
इसलिए दिनभर भर काम करने की वजह से जो लोग बहुत ही थकान और परेशानी का शिकार रहते हैं, उन लोगों के लिए नाशपाती का सेवन बहुत अधिक फायदेमंद होता है, क्योंकि इसका सेवन करने से त्वचा में चमक आने के साथ-साथ शरीर को एनर्जी भी देता है। ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि इसमें बहुत से पोषक तत्व और विटामिंस पाई जाती हैं जो शरीर को उर्जा देने में मदद करता है।
नाशपाती की प्रमुख क़िस्मेः
नाशपाती को उनके पैदावार के काल-क्रमानुसार और बुआई व भौगोलिक दशाओं आदि के अनुसार कुल 5 भागं में विभाजित किया गया है, जिनके अनेक प्रकार होते हैं। इन्हें जानने से पहले यह समझ लें कि नाशपाती की सभी पैदावार मध्य और उच्च पर्वतीय क्षेत्र में 1600 से लेकर 2400 मीटर की ऊँचाई वाली भूमि में ही होती है। 2400 मीटर की ऊँचाई से लेकर नीचे घाटियों, भावर प्रदेश और तराई इलाक़ों तक नाशपाती की पैदावार होने की संभावना रहती है या पैदा होती है।
1. अगेतीः
थम्वपियर, डॉ. जूल्स गायट और अर्ली चाइना
2. मध्यः
व्यूरे-डी-अम्नेलिस, बग्गूगोसा, डायनडेयुकोमिस, विक्टोरिया, कॉन्फ़्रेंस और फ़्लेमिस ब्यूटी
3. पछेतीः
विण्टर नेलिस, व्यरूहार्डी, विलियम वार्टलटे या विलियम, मैक्सरेड वार्टलेट, जार्गनेल, पैखम्स ट्रायफ़
4. घाटी, तराई एवं भावरः
चायनापियर, लिंकाण्टे, कीफ़र, पत्थरनाख और पतं नाशपाती-17
5. परागकर्ता क़िस्मेः
अच्छी फसल के लिए एक ही समय में फूल लगने वाली दो क़िस्मों चायनापियर और गोला को मिलाकर परागकर्ता क़िस्म प्राप्त होती है। यह बहुत ही फ़ायदेमंद होती है।

आपको ये पोस्ट कैसी लगी नीचे कमेंट करके अवश्य बताइए। इस पोस्ट को शेयर करें और ऐसी ही जानकारी पड़ते रहने के लिए आप बॉलीकॉर्न.कॉम (bollyycorn.com) के सोशल मीडिया फेसबुकट्विटरइंस्टाग्राम पेज को फॉलो करें।

No comments:

Post a Comment